fbpx
Now Reading:
पीएनबी, यूनाइटेड बैंक और ओरिएंटल बैंक सहित इन बैंकों का होगा आपस में विलय
Full Article 3 minutes read

पीएनबी, यूनाइटेड बैंक और ओरिएंटल बैंक सहित इन बैंकों का होगा आपस में विलय

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को सार्वजनिक क्षेत्र के तीन बैंकों के भविष्य को लेकर घोषणा करते हुए कहा कि पंजाब नेशनल बैंक, यूनाइटेड बैंक, ओरिएंटल बैंक, यूनियन बैंक, कॉरपोरेशन बैंक और आंध्रा बैंक, इंडियन बैंक, इलाहाबाद बैंक, केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक का विलय किया जायेगा. इन तीनों बैंकों के विलय के बाद एक बड़ा बैंक बनेगा. एक हफ्ते के अंदर अपनी दूसरी प्रेस वार्ता में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि देश के बैंकिंग क्षेत्र में कई बड़े सुधार किये गये. बैंको ने उपभोक्ताओं के हित में घोषणाएं कीं.

यूनियन बैंक के साथ आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का विलय होगा. विलय के बाद ये देश का सबसे बड़ा पांचवां बैंक हो जायेगा. केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक में विलय होगा और यह देश का सबसे बड़ा चौथा सरकारी बैंक होगा, जिसकी पूंजी 15.20 लाख करोड़ होगी. पंजाब नेशनल बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक का विलय होगा और यह बैंक देश का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक हो जायेगा. इसका सालाना कारोबार 17.95 लाख करोड़ का होगा.

Related Post:  सदन में फिसली आजम खान की जुबान, स्पीकर से बदजुबानी, माफी मांगने की मांग

उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था को पांच लाख करोड़ डॉलर तक पहुंचाने को लेकर काम जारी है और इसके लिए हम प्रतिबद्ध हैं. उन्होंने कहा कि बड़े कर्ज पर नजर बनाये रखने के लिए निगरानी संकेत एजेंसी का गठन किया जायेगा. इसके तहत 250 करोड़ से अधिक पर निगरानी संकेत एजेंसी की नजर बनी रहेगी.

वित्त मंत्री ने कहा कि 18 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में 14 बैंकों का मुनाफा बढ़ा है और देश के बैंकों में गैर-निष्पादित आस्तियों (एनपीए) में कमी आयी है. इसके अलावा, उन्होंने बैंकों के कर्मचारियों को आश्वस्त भी किया है कि बैंकिंग सेक्टर में और खासकर सरकारी बैंकों में कर्मचारियों की छंटनी नहीं की जायेगी.

Related Post:  झारखंड: सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड के आरोपी शशिभूषण मेहता को भाजपा ने लगाया गले, मंच पर चले लात जूते

इसके साथ ही, उन्होंने यह भी का कि देश के आठ सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने ब्याज दरों को रेपो रेट से जोड़ लिया है. मेरे पिछले ऐलान के बाद चार एनबीएफसी ने अपने समस्याओं का समाधान बैंकों के जरिये किया है. उन्होंने कहा कि हमें वित्तीय क्षेत्र के लिए मजबूत आधार तैयार करना होगा. उन्होंने कहा कि देश में करीब तीन लाख फर्जी कंपनियां बंद की गयीं और भगोड़ों पर कार्रवाई जारी रहेगी. उन्होंने यह भी कहा कि नीरव मोदी जैसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो, इसके लिए हमारी नजर बनी रहेगी.

Related Post:  'सिद्धू' के सहारे सिखों को साधेगी कांग्रेस, मिल सकती है दिल्ली कांग्रेस की कमान
Input your search keywords and press Enter.