fbpx
Now Reading:
झांसी में पुलिस ने किया फेक एनकाउंटर ? समाजवादी पार्टी ने लगाया आरोप
Full Article 2 minutes read

झांसी में पुलिस ने किया फेक एनकाउंटर ? समाजवादी पार्टी ने लगाया आरोप

उत्तर प्रदेश के झांसी में हुई मुठभेड़ को फर्जी बताते हुए समाजवादी पार्टी ने मंगलवार को मांग की है कि इसकी जांच हाईकोर्ट के न्यायाधीश से कराई जाए और संबंधित पुलिस थानाध्यक्ष के खिलाफ युवक की हत्या को लेकर प्राथमिकी दर्ज की जाये।
समाजवादी पार्टी ने मंगलवार को एक ट्वीट में कहा कि पुष्पेंद्र यादव का ज़बरन अंतिम संस्कार कर भाजपा सरकार ने साबित कर दिया है कि हत्या के आरोपियों को बचाने के लिए वह किसी भी हद तक जा सकती है।

समाजवादी पार्टी की मांग है कि आरोपी एसएचओ पर भादसं की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया जाए। साथ ही इस मामले की सीडीआर निकलवा कर उच्च न्यायालय के न्यायाधीश से जांच कराई जाये। पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव कल बुधवार को झांसी में मारे गये युवक के परिजनों से मिलने जायेंगे।

Related Post:  बिहार में भी निर्भया, गैंगरेप के बाद 2 चचेरी बहनों की हत्या दोनों आंखें फोड़ीं निजी अंग भी काट डाले

झांसी पुलिस ने दावा किया था कि उसने पांच और छह अक्टूबर की रात कथित रूप से बालू खनन में शामिल पुष्पेंद्र यादव को जिला मुख्यालय से 80 किलोमीटर दूर गुरसराय इलाके में मुठभेड़ में मार गिराया। पुलिस ने दावा किया था कि मुठभेड़ से कुछ घंटे पहले पुष्पेंद्र ने कानपुर झांसी राजमार्ग पर मोठ के थानाध्यक्ष धर्मेंन्द्र सिंह चौहान पर गोली चलायी थी।

झांसी के पुलिस अधीक्षक ओपी सिंह ने बताया कि पुष्पेंद्र यादव अवैध रूप से खनन कार्य में शामिल था और 29 सितंबर को थानाध्यक्ष द्वारा उसके कुछ ट्रक जब्त किये जाने के बाद उनसे उसकी कहासुनी भी हुई थी। पुलिस के अनुसार, पुष्पेंद्र समेत तीन मोटरसाइकिल सवारों ने शनिवार रात को थानाध्यक्ष धर्मेंद्र और उसके सहयोगी को कानपुर झांसी राजमार्ग पर रोका।

Related Post:  यूपी में पत्रकार की हत्या से गरमाई सियासत, सीएम ने किया 5-5 लाख के मुआवजे का ऐलान

पुष्पेंद्र ने धर्मेंद्र पर गोली चलाई और उसकी कार लेकर चला गया। बाद में सुबह तड़के करीब तीन बजे गोरठा के पास पुलिस ने तीन लोगों को धर्मेंद्र की कार के साथ पकड़ा और इसी बीच हुई मुठभेड़ में पुष्पेंद्र मारा गया।

रविवार को पुष्पेंद्र यादव, विपिन और रविंद्र के खिलाफ मोठ और गुरसराय पुलिस थाने में दो अलग अलग प्राथमिकी दर्ज की गई। समाजवादी पार्टी ने इस मुठभेड़ को फर्जी बताते हुए आरोप लगाया कि पुष्पेंद्र को पुलिस ने उस समय मार डाला जब वह अपने ट्रक छुड़ाने थानाध्यक्ष के पास आया था।

Related Post:  कश्मीर में अब नहीं रहेगा अलग संविधान, लहराएगा तिरंगा, लोग खरीद सकेंगे संपत्ति
Input your search keywords and press Enter.