fbpx
Now Reading:
हाफिज सईद ने हत्या के आरोपी पुलिसवालों को बचाया, आतंकी की ‘इच्छा’ पर पीड़ितों के परिजनों ने किया माफ
Full Article 2 minutes read

हाफिज सईद ने हत्या के आरोपी पुलिसवालों को बचाया, आतंकी की ‘इच्छा’ पर पीड़ितों के परिजनों ने किया माफ

पाकिस्तान की एक अदालत ने पुलिस हिरासत में एक कथित एटीएम चोर को मार डालने के आरोपी सभी तीन पुलिस अधिकारियों को संयुक्त राष्ट्र से आतंकवादी घोषित हाफिज सईद की मध्यस्थता के बाद बरी कर दिया है। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जाहिद हुसैन बख्तियार ने कथित एटीएम चोर सलाउद्दीन अयूबी की हत्या के आरोप में महमूदुल हसन, शफात अली और मतलूब हुसैन नाम के पुलिस अधिकारियों को इस सप्ताह बरी कर दिया। अदालत ने इन लोगों को तब बरी किया जब मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड सईद की ‘इच्छा’ पर अयूबी के परिजनों ने आरोपियों को माफ कर दिया।

मानसिक रूप से कमजोर अयूबी की अगस्त में पुलिस हिरासत में कथित यातना के चलते मौत हो गई थी। पुलिस ने उसे एटीएम से रुपये चुराने के आरोप में गिरफ्तार किया था। अयूबी की हिरासत में हुई मौत से देश में आक्रोश पैदा हो गया था। सईद ने पुलिस और मृतक के परिजनों के बीच मध्यस्थता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड सईद आतंकवाद को वित्तीय मदद देने के आरोप में 17 जुलाई से यहां उच्च सुरक्षा वाली कोट लखपत जेल में बंद है। उसने मृतक के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें आरोपी पुलिसर्किमयों को माफ करने के लिए तैयार किया। इस संबंध में एक आधिकारिक सूत्र ने पीटीआई को बताया कि आरोपी पुलिसर्किमयों, उनके अधिकारियों और मृतक के परिजनों ने जेल में सईद के साथ कई बैठकें कीं जिसने उनके बीच समझौता करा दिया।

सरकार के एक अधिकारी ने पीटीआई को बताया कि सईद ने पीड़ित परिवार के सामने तीन विकल्प रखे कि या तो वे खून के बदले आरोपी पुलिसर्किमयों से धन ले लें, या अल्लाह के नाम पर उन्हें माफ कर दें या फिर कानूनी लड़ाई पर आगे बढ़ें। परिवार ने पुलिसर्किमयों को माफ करने का विकल्प चुना। पीटीआई ने अयूबी के पिता से संपर्क किया तो उन्होंने पुष्टि की कि परिवार ने सईद की ‘इच्छा’ पर पुलिसर्किमयों को माफ कर दिया है। सूत्र ने कहा कि इससे पता चलता है कि सईद का पाकिस्तान में कितना प्रभाव है।

Input your search keywords and press Enter.