fbpx
Now Reading:
राफेल पर लगी भारत की मुहर, लेकिन वायु सेना में शमिल होने में लगेगा 19 महीने का वक्त
Full Article 2 minutes read

राफेल पर लगी भारत की मुहर, लेकिन वायु सेना में शमिल होने में लगेगा 19 महीने का वक्त

जिस राफेल (फ्रांसीसी लड़ाकू विमान) के लिए संसद से सड़क तक संग्राम हुआ आखिरकार वह हमारा हो गया है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को शस्त्र पूजा करने के साथ ही दसॉल्ट कंपनी से पहले राफेल विमान को रिसीव किया, इसी के साथ भारत आसमान में और भी अधिक शक्तिशाली हो गया है.

हालांकि, भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होने में राफेल विमान को अभी लंबा वक्त लगेगा, क्योंकि अभी तो भारतीय वायुसेना के जवानों की ट्रेनिंग शुरू होगी. भारत फ्रांस से कुल 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीद रहा है, मंगलवार को इसी किस्त का पहला विमान राजनाथ ने रिसीव किया. हालांकि, ये सिर्फ आधिकारिक हैंडओवर है अभी ये विमान फ्रांस में ही रहेगा, जहां वायुसेना के जवान इसकी ऑपरेशनल ट्रेनिंग लेंगे.

Related Post:  NDTV के पत्रकार रवीश कुमार रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित, अबतक छह भारतीय पत्रकार को मिला है यह सम्मान

36 विमानों में से 4 विमानों की पहली किस्त मई 2020 तक भारत को मिलेगी और ये विमान हिंदुस्तान की धरती पर पहुंचेंगे. यानि करीब 8 महीने बाद राफेल भारत आएगा. लेकिन इसके बाद इस्तेमाल में लाने में भी इसे समय लगेगा और फरवरी 2021 तक जाकर ये विमान पूरी तरह से ऑपरेशनल होंगे.

राफेल विमाम 4.5 जेनरेशन का लड़ाकू विमान है जो भारतीय वायुसेना में एक तरह से जेनरेशन का बदलाव होगा. इस विमान में 24500 Kg. भार ढोने की क्षमता है, साथ ही विमान के जरिए एक साथ 125 राउंड गोलियां निकलती हैं जो किसी को भी चीर कर रख सकती हैं. इस विमान में भारत के लिए स्पेशली दो तरह की मिसाइल लगाई गई हैं, जो हर खतरे को खत्म करने के लिए तैयार हैं.

Related Post:  देशभर में मनाई जा रही है ईद, राष्ट्रपति, पीएम मोदी और राहुल गांधी ने दी बधाई

गौरतलब है कि भारतीय वायुसेना को जो 36 विमान मिलने हैं, उनके भारत पहुंचने की डेडलाइन सितंबर, 2022 है. यानी अगले तीन साल में सभी 36 राफेल लड़ाकू विमान भारत पहुंच सकते हैं जो कि वायुसेना को दमदार बनाने के लिए काफी हैं. भारत-फ्रांस के बीच हुई इस डील की कीमत करीब 59 हजार करोड़ रुपये की थी.

Input your search keywords and press Enter.