fbpx
Now Reading:
जानिए राज कपूर के जमाने में ऐसी होती थी बॉलीवुड की होली

जानिए राज कपूर के जमाने में ऐसी होती थी बॉलीवुड की होली

मुंबई: फिल्मी सितारों की होली का भी अपना इतिहास है। इस बार भी होली के मौके पर सितारे होली खेल रहे हैं। लेकिन हम आपको बताने जा रहे हैं कि बॉलीवुड में किस प्रकार सितारे होली मनाते आए हैं।
एक ज़माना था जब बॉलीवुड में होली का मतलब, राज कपूर के आरके स्टूडियो की होली होता था। बॉलीवुड में राज कपूर की होली आज भले ही इतिहास हो गई है लेकिन आरके स्टूडियों की होली रही है। ऐसा नहीं है कि फिल्म वाले सिर्फ दर्शको को रिझाने के लिए फिल्मो में होली का सहारा लेते थे। असल जिंदगी में भी होली फिल्म वालों के लिए ऐसा त्यौहार रहा है जब वो अपना स्टारडम छोड़ कर हर रंग में रंग जाते थे।
राज कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर शुरू में अपने थियेटर के लोगों के संग होली मनाते थे जिसे राज कपूर ने फेमस बना दिया। साल 1952 से ही आर के स्टूडियो में जम कर होली होती थी। एक बड़े टैंक में रंग और दूसरे में भंग तैयार किए जाते थे और हर आने वाले को उन दोनों से सराबोर किया जाता था। बताते हैं कि हर आने वाले का पहला स्वागत रंग भरे टैंक में डुबकी लगावा कर किया जाता । जो ज्यादा ना नुकुर करता उसे जबरदस्ती उठाकर टैंक में पटक दिया जाता।
कहते हैं एक बार बैजयंतीमाला बाली ने आर के स्टूडियो आ कर भी होली खेलने में आनाकानी की, तो उन्हें उस रंग भरे टैंक में सात बार डुबकियां लगवाई दी गईं। राजकपूर की होली में उस ज़माने का हर छोटा बड़ा सितारा शामिल होना अपनी शान समझता था। सिर्फ देव आनंद नहीं आते थे क्योंकि उन्हें रंगों से परहेज था।
रंगों के साथ जम कर गीत संगीत और हंसी -ठिठोली भी चलती। शंकर जयकिशन जैसे बड़े संगीतकार होली गीतों की महफ़िल जमाते और मशहूर नृत्यांगना सितारा देवी और बैजयंतीमाला बाली का अपने क्लासिकल डांस का हुनर दिखाते। मुंह में सिगरेट दबा कर राजकपूर जब ढोलक पर थाप देना शुरू करते तो नज़ारा देखते ही बनता था।
होली के हुडदंग में कोई भूखा ना चला जाए इसकी जिम्मेदारी नर्गिस पर हुआ करती थी। उनकी धाक ऐसी रहती कि भांग की मस्ती होने के बाद हर कोई बिना पेट भर खाये आर के से बाहर नहीं निकलता था। राजकपूर की होली को एक ज़माने में ‘ भांग और फूड ‘ फेस्टिवल भी कहा जाता था।
कहते हैं कि 70 के दशक की शुरुआत में फिल्में पिटने के कारण आर के होली फीकी हो गई थी लेकिन बॉबी के हिट होते ही कपूर्स फिर फॉर्म में आ गए। उस दौर में बॉलीवुड का हर सितारा पूरे साल होली का इन्तजार करता ताकि उसे उस दिन आर के स्टूडियो में घुसने का मौक़ा मिल जाए। हर होली को कुछ किन्नर राजकपूर से होली की त्यौहारी मांगने आते।
खूब नाच गाना होता और राजकपूर अपनी नई फिल्म का गाना सबसे पहले उन्हीं को सुनाते। कहते हैं ‘ राम तेरी गंगा मैली का गाना ‘ सुन साहिबा सुन ‘ होली के मौके पर किन्नरों ने ही पास किया था। राज कपूर की बीमारी और निधन के साथ इस होली का रंग फीका पड़ता गया और बाद में आरके की मशहूर होली बंद हो गई।
Related Post:  अरबाज़ खान मलयालम में डेब्यू मोहनलाल स्टारर 'बिग ब्रदर' से करेंगे
Input your search keywords and press Enter.