fbpx
Now Reading:
शेयर बाजार में नौ दिन की गिरावट के बाद लगा ब्रेक, उछला सेंसेक्स, 228 अंक की बढ़त

शेयर बाजार में नौ दिन की गिरावट के बाद लगा ब्रेक, उछला सेंसेक्स, 228 अंक की बढ़त

मुंबई: शेयर बाजारों में पिछले नौ कारोबारी सत्रों से चली आ रही गिरावट का सिलसिला मंगलवार को थम गया। फार्मा, बैंकिंग और ऊर्जा कंपनियों के शेयरों में लाभ बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 228 अंक सुधर गया। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी में भी 74 अंक का लाभ रहा।

सेंसेक्स की बड़ी कंपनियों रिलायंस इंडस्ट्रीज, आईटीसी और एसबीआई में लाभ से बाजार सुधरा। सेंसेक्स की कंपनियों में सनफार्मा सबसे अधिक 5.87 प्रतिशत लाभ में रहा। वहीं भारती एयरटेल, वेदांता, इंडसइंड बैंक, एसबीआई और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर 5.40 प्रतिशत तक चढ़ गए। वहीं दूसरी ओर टीसीएस, एचसीएल, बजाज फाइनेंस, बजाज आटो और इन्फोसिस के शेयरों में सबसे अधिक नुकसान रहा।

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स सकारात्मक रुख के साथ 37,146.58 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान इसने 37,572.70 अंक के उच्चस्तर को छुआ और यह 36,956.10 अंक के निचले स्तर तक आया। अंत में सेंसेक्स 227.71 अंक या 0.61 प्रतिशत के लाभ से 37,318.53 अंक पर बंद हुआ।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 11,151.65 अंक पर ऊंचा खुलने के बाद 11,294.75 अंक के उच्चस्तर तक गया। कारोबार के दौरान यह 11,108.30 अंक के निचले स्तर तक आया। अंत में निफ्टी 73.85 अंक या 0.66 प्रतिशत की बढ़त के साथ 11,222.05 अंक पर बंद हुआ।

इससे पिछले नौ सत्रों में सेंसेक्स 1,940.73 अंक और निफ्टी करीब 600 अंक टूटा था। देश में खुदरा मुद्रास्फीति की दर अप्रैल में 2.92 प्रतिशत पर रही है जो केंद्रीय बैंक के नौ माह के लक्ष्य से अधिक है। इससे उम्मीद बंधी है कि रिजर्व बैंक ब्याज दरों में और कटौती कर सकता है।

थोक मुद्रास्फीति भी अप्रैल में कम होकर 3.07 प्रतिशत पर आ गई है। उद्योग मंडल एसोचैम के उप महानिदेशक सौरभ सान्याल ने कहा, ‘‘थोक मुद्रास्फीति और खुदरा मुद्रास्फीति दोनों रिजर्व बैंक के चार प्रतिशत के लक्ष्य से अंदर है, ऐसे में केंद्रीय बैंक अगले महीने ब्याज दरों में कटौती कर सकता है।’’

इस बीच, अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में रुपये में मामूली सुधार हुआ और यह सात पैसे की बढ़त के साथ 70.44 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। चीन ने सोमवार को जवाबी कार्रवाई करते हुए अमेरिका के 60 अरब डॉलर मूल्य के उत्पादों पर शुल्क बढ़ाने की घोषणा की है।

ब्रेंट कच्चा तेल 0.94 प्रतिशत की बढ़त के साथ 70.89 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा था। अमेरिका और चीन के बीच बढ़ते व्यापार युद्ध की वैश्विक बाजारों में उतार-चढ़ाव और बढ़ा है। इस बीच, शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशकों ने मंगलवार को शुद्ध रूप से 2,011.85 करोड़ रुपये के शेयर बेचे। वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 2,242.91 करोड़ रुपये की लिवाली की।

Input your search keywords and press Enter.