fbpx
Now Reading:
दिमागी बुखार ‘निपाह’ वायरस की भारत में वापसी, केरल में सामने आया पहला केस, पिछले साल गई थी कई जान
Full Article 2 minutes read

दिमागी बुखार ‘निपाह’ वायरस की भारत में वापसी, केरल में सामने आया पहला केस, पिछले साल गई थी कई जान

निपाह वायरस भारत केरल

कोच्चि: पिछले साल कई लोगों को अपना शिकार बनाकर मौत की नींद सुलाने वाला दिमागी बुखार ‘निपाह’ ने केरल में एक बार फिर पैर पसारना शुरू कर दिया है. कोच्चि में 23 साल के एक छात्र को निपाह वायरस से संक्रमित होने का पहला मामला सामने आया है. इस पर राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बात की पुष्टि की है.


उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान ने पुष्टि की कि 23 साल का छात्र के खून में निपाह वायरस पाया गया है. उन्होंने आगे कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है, पुष्टि से पहले ही सरकार ने एहतियात बरतनी शुरू कर दी थी. इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा, “हमने आज केरल में निपाह वायरस की स्थिति का जायजा लिया और स्वास्थ्य मंत्रालय में एक बैठक की.”

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार की मदद के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेषज्ञों और अधिकारियों की एक टीम पहले ही केरल पहुंच गई है. उन्होंने आगे कहा कि निपाह के शक के 86 मामले अब तक आ चुके हैं, जिनमें से एक की पुष्टि हुई है. इसके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय में एक नियंत्रण कक्ष का गठन किया गया है.

बता दें कि निपाह से संक्रमित छात्र एर्नाकुलम जिले का रहने वाला है और इडुक्की जिले में स्थित थोडुपुज़ा के कॉलेज में पढ़ता है. वह हाल में शिविर के संबंध में त्रिशूर में था. त्रिशूर की जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ रीना के मुताबिक, छात्र सिर्फ चार दिन ही त्रिशूर में था और उसे बुखार आ रहा था. आपको बता दें कि पिछले साल इस जानलेवा बिमारी ने कई लोगों को अपना शिकार बनाया था.

Input your search keywords and press Enter.