fbpx
Now Reading:
Saradha Chit Fund Case : कोलकाता पुलिस के पूर्व कमिश्नर राजीव कुमार पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार
Full Article 2 minutes read

Saradha Chit Fund Case : कोलकाता पुलिस के पूर्व कमिश्नर राजीव कुमार पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के करीबी  कोलकाता पुलिस के पूर्व कमिश्नर राजीव कुमार पर गिरफ़्तारी की तलवार लटक रही है. कलकत्ता हाईकोर्ट द्वारा राजीव कुमार की गिरफ़्तारी पर लगी रोक हटाए जाने के बाद  सीबीआई की टीम कोलकाता में डिप्टी पुलिस क​मिश्नर के दफ्तर पहुंच गई, जहां राजीव कुमार का आवास है. सीबीआई ने नोटिस देकर राजीव कुमार को शनिवार को पेश होने के लिए कहा है.

आपको बता दें कि हजारों करोड़ों रुपये के शारदा चिटफंड घोटाले में कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त और सीआइडी के एडीजी राजीव कुमार को हिरासत में लेकर पूछताछ करने के मामले में लंबी सुनवाई के बाद कोलकाता हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है. दरअसल सीबीआई राजीव कुमार को हिरासत में लेकर पूछताछ करना चाहती है. वहीं दूसरी तरफ राजीव कुमार ने गिरफ्तारी से बचने  के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. कोलकाता हाईकोर्ट के फैसले के बाद राजीव कुमार की गिरफ़्तारी का रास्ता साफ़ हो गया है. 

दरअसल सीबीआई के अधिकारियों का कहना है कि राजीव कुमार ने शारदा  समूह के मालिक सुदीप्त सेन की लाल रंग की एक डायरी व पेन ड्राइव छुपा रखी है. जिसमें बड़े नेताओं को शारदा समूह की ओर से दिए गए धन का लेखा-जोखा है. सुदीप्त सेन से सीबीआई अधिकारियों को बताया है कि उक्त डायर कंपनी मुख्यालय से मामले की जांच के लिए गठित विशेष जांच दल (एसआइटी) के अधिकारियों ने जब्त कर ले गए थे. लेकिन, राजीव कुमार का कहना है कि उनके पास इस तरह की कोई डायरी नहीं है. आरोप है कि राजीव कुमार ने फोन के काल लिस्ट से भी छेड़छाड़ की थी. 

गौरतलब है कि राजीव कुमार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के काफी करीबी हैं. राजीव कुमार पर आरोप है कि पोंजी चिट फंड घोटाले में उन्होंने सबूतो के साथ छेड़छाड़ की थी. उस दौरान इस घोटाले की जांच कर रही सीआईटी के राजीव कुमार प्रमुख थे.

Related Post:  इंद्राणी मुखर्जी के बयान ने बढ़ाई 'चिदंबरम' की मुश्किलें, जानिए क्या है पूरा मामला
Input your search keywords and press Enter.