fbpx
Now Reading:
शागिर्द
Full Article 3 minutes read

फिल्म शागिर्द की कहानी के केंद्र में है दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा. मूलत: यह एक थ्रिलर है, जिसमें वास्तविकता का समावेश है. इसमें दर्शक नाना पाटेकर के अभिनय का एक अलग रूप देखेंगे और एक बार फिर वह सुर्ख़ियों में छा जाएंगे. फिल्म में नाना पाटेकर के अलावा रिमी सेन, ज़ाकिर हुसैन एवं मोहित अहलावत भी हैं. मोहित इससे पहले राम गोपाल वर्मा की फिल्म जेम्स और फिल्म शिवा के रीमेक में काम कर चुके हैं. हालांकि ये दोनों ही फिल्में फ्लाप रही थीं. अब मोहित को उम्मीद है कि नाना और तिग्मांशु का साथ उनकी किस्मत ज़रूर खोल देगा. फिल्म में निर्देशक अनुराग कश्यप ने भी एक गैंगस्टर की भूमिका निभाई है, जो तिग्मांशु के पुराने मित्र हैं. तिग्मांशु इससे पहले इरफान ख़ान और जिम्मी शेरगिल के साथ कुछ फिल्मों का निर्माण एवं निर्देशन कर चुके हैं. उनकी फिल्मों को काफी सराहा गया था.

अब नाना पाटेकर के साथ बनाई गई उनकी फिल्म शागिर्द भी इसी वजह से चर्चा में है. पुलिस महकमे की आपसी खींचतान और उसके राजनीतिक हथकंडों पर बनी इस फिल्म में नाना पाटेकर पुलिस अधिकारी की भूमिका में होंगे और मोहित उनके शागिर्द. नाना से ही दांव-पेंच सीखकर मोहित डबल क्रास करके उन्हें मात देंगे. मोहित बॉलीवुड में अपनी शर्तों पर ही काम करने के इच्छुक हैं और इसीलिए वह किसी का दबाव और झूठ पसंद नहीं करते. यही वजह है कि उन्होंने आमिर ख़ान की गजिनी को भी छोड़ दिया था. वजह स़िर्फ इतनी थी कि निर्देशक ए आर मुरुगदोस ने उन्हें ऐसे पुलिस अधिकारी की भूमिका के लिए कहा था, जो इंटरवल के बाद मर जाता है, लेकिन बाद में उनसे अलग तरह से काम लिया जाने लगा. जब उन्होंने निर्देशक से इस बारे में पूछा तो उन्हें उनसे कोई स्पष्टीकरण नहीं मिला. नतीजा यह हुआ कि मोहित ने फिल्म ही छोड़ दी. मोहित के अनुसार, नाना के साथ काम करके उन्हें बिल्कुल नया अनुभव मिला.

मोहित ने एलबम लैला से ग्लैमर की दुनिया में कदम रखा. इसके बाद उन्होंने पहली फिल्म जेम्स से दमदार एंट्री की. फिल्म शिवा में धाकड़ पुलिस अधिकारी की भूमिका में उन्होंने ज़बरदस्त छाप छोड़ी. इन फिल्मों से मोहित की छवि एक्शन हीरो की बनी. अब भी उनका रुझान एक्शन फिल्मों की ओर है. फिल्म शागिर्द के निर्माता रिलायंस बिग पिक्चर्स हैं. बताते हैं कि नाना पाटेकर शूटिंग के दौरान दिल्ली की गर्मी से परेशान थे और अक्सर सहयोगी कलाकारों की ग़लती पर भड़क उठते थे. तिग्मांशु बताते हैं कि एक दिन घबराहट की वजह से मोहित से संवाद अदायगी में ग़लती हो रही थी, जिस पर बगल में खड़े नाना भड़क उठे. फिर बाद में उन्हें शांत कराया गया. यूनिट का मानना था कि नाना के ताव खाने की मूल वजह मोहित की ग़लती के बजाय दिल्ली की गर्मी थी. फिल्म शागिर्द आगामी 11 मार्च को देश भर में रिलीज होने जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.