fbpx
Now Reading:
जुमलेबाज़ सरकार के दावों की निकली हवा, फिर बढ़ा रेलवे का किराया
Full Article 3 minutes read

जुमलेबाज़ सरकार के दावों की निकली हवा, फिर बढ़ा रेलवे का किराया

piyush-goyal

piyush-goyal

केंद्र की सरकार वैसे तो महंगाई कम करने के बड़े-बड़े दावे करती है लेकिन जब इन दावों को हकीकत में बदलने का समय आता है तो सरकार अपनी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ लेती है तभी तो एक बार फिर से रेलवे के किराए में वृद्धि कर दी गयी हैं. सरकार जनता को लगातार धोखा दिए जा रही है. इसके साथ ही सरकार ने जिन ट्रेनों को स्पीड बढ़ाने के बारे में कहा था अब उससे भी सरकार पीछे हट गयी है. सबसे तेज़ ट्रेन मानी जाने वाली राजधानी और शताब्दी ट्रेन भी किसी पैसेंजर ट्रेन की तरह लेट हो रही हैं.

ऐसे में एक बार फिर से रेलवे ने ट्रेन में सफर अपने वाले यात्रियों के जेब पर नजर डाला है. जी हां, रेलवे ने फिर से अपने अपने किराये में बढ़ोत्तरी की है. लेकिन रेलवे ने उन ट्रेनों के किराए में इजाफा किया है जिन 48 मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों को सुपरफास्ट घोषित किया है.

बता दें कि अब इन ट्रेनों से यात्रा करने वाले यात्रियों को स्लीपर क्लास के लिए 30 रुपये, सेकंड और थर्ड एसी क्लास के लिए 45 रुपये और फर्स्ट एसी क्लास के लिए 75 रुपये अतिरिक्त सुपरफास्ट चार्ज देना होगा। 48 ट्रेनों को अपग्रेड करने के बाद सुपरफास्ट ट्रेनों की संख्या अब 1,072 हो गई है.

ध्यान दें : नए सुपरफास्ट ट्रेनों में ये ट्रेनें शामिल हैं- पुणे-अमरावती एसी एक्सप्रेस, पाटलीपुत्र-चंडीगढ़ एक्सप्रेस, विशाखापत्तनम-नांदेड़ एक्सप्रेस, दिल्ली-पठानकोट एक्सप्रेस, कानपुर-उधमपुर एक्सप्रेस, छपरा-मथुरा एक्सप्रेस, रॉक फोर्ट चेन्नै-तिरुचिलापल्ली एक्सप्रेस, बेंगलुरु-शिवमोगा एक्सप्रेस, टाटा-विशाखापत्तनम एक्सप्रेस, दरभंगा-जालंधर एक्सप्रेस, मुंबई-मथुरा एक्सप्रेस, मुंबई-पटना एक्सप्रेस।

ये भी पढ़ें: IRCTC अकाउंट को Aadhaar से लिंक करने पर यात्रियों को मिलेगा ये फायदा

जानकारी के लिए बता दें कि रेलवे ने इन ट्रेनों की स्पीड महज 5 कि.मी/घंटा की दर से बढ़ाकर 50 से 55 कि.मी./घंटा की है. हालांकि इसकी कोई गारंटी नहीं है कि अपग्रेड होने के बाद ये ट्रेनें समय पर चलने लगेंगी

कैग ने पिछली रिपोर्ट में रेलवे की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि यात्रियों से सुपरफास्ट चार्ज तो वसूल लिए जाते हैं, लेकिन ट्रेनें तय रफ्तार से नहीं चलती हैं और न ही अन्य वांछित सुविधाएं ही दी जाती हैं. कैग ने यह भी कहा कि रेलवे बोर्ड ने सुपरफास्ट सेवाएं नहीं मिलने की स्थिति में यात्रियों को सुपरफास्ट चार्ज वापस करने का नियम नहीं बनाया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.