fbpx
Now Reading:
असुरक्षित यौन संबंध से फैलती है ये बीमारी, रहें सावधान वर्ना हो सकती है आपकी मौत

असुरक्षित यौन संबंध से फैलती है ये बीमारी, रहें सावधान वर्ना हो सकती है आपकी मौत

यदि आप पहले से यौन रोग से ग्रसित पार्टनर के साथ असुरक्षित संबंध बनाते हैं तो सिफलिस नामक रोग महिलाओं या पुरुषों को हो सकता है. सिफलिस एक खतरनाक यौन संक्रामक रोग है जो असुरक्षित शारीरिक संबंध बनाने से फैलता है. इस बीमारी को इलाज से ठीक किया जा सकता है. यदि आप इसका इलाज नहीं करवाते हैं तो यह समस्‍या धीरे धीरे गंभीर होती जाती है. इसलिए सिफलिस के संकेत पता चलते ही डॉक्‍टर से सलाह जरूर लेना चाहिए.

इसे भी जरूर पढ़ें : सिद्धू के लिए नुकसान देह हो गया तेज बोलना, डॉक्‍टरों ने दी आराम की सलाह

सबसे पहले सिफलिस घाव या दाग की तरह दिखने लगते हैं. ये घाव शरीर में बैक्‍टीरिया के घुसने से बनने लगता है जो कम से कम तीन सप्‍ताह के बाद विकसित होते हैं. कभी ये सिर्फ एक घाव तो कभी ये शरीर में कई जगह देखने को मिलता है. लेकिन अक्‍सर लोग इस पर ध्‍यान नहीं देते हैं. क्‍योंकि इन घावों में दर्द नहीं होता है और कुछ दिन बाद ठीक हो जाते हैं. जब इसका इलाज नहीं कराते हैं तो ये कुछ दिनों बाद फिर दिखने लगते हैं. जो आगे चलकर आपके लिए कई समस्‍याओं का कारण बनते हैं. आइए जानते हैं सिफलिस के बारे में.

बुखार : आपको बुखार, गले में खराश और लिम्फ नोड्स में सूजन हो सकती है। इसके अलावा लंबे समय तक कमजोरी और बेचैनी भी हो सकती है।

बालों को झड़ना : आपके बाल झड़ सकते हैं। इतना ही नहीं आइब्रो और पलकों के बाल भी झड़ने लगते हैं.

मांसपेशियों में दर्द : बुखार के अलावा आपको गले में खराश और शरीर के विभिन्न हिस्सों में दर्द और जोड़ों में भी दर्द हो सकता है।

इसे भी जरूर पढ़ें : केवल फल सब्‍जी ही नहीं, कई बीमारियों के लिए रामबाण है गाजर

सिफिलिटिक मेनिनजाइटिस : सिफलिस इन्फेक्शन के बाद विकसित होने में कई साल लग सकता है। मेनिनजाइटिस में दिमाग और रीढ़ की हड्डी के आसपास उत्तकों में सूजन होने लगती है। अगर सिफलिस ज्‍यादा बढ़ जाए तो आपके लिए जानलेवा भी हो सकता है.

न्‍यूरोसिफिस : अगर इसका इलाज नहीं कराया जाए, तो यह तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकता है। बैक्टीरिया के तंत्रिका तंत्र को संक्रमित करने को न्यूरोसिफिस (neurosyphilis) के रूप में जाना जाता है।

ह्रदय संबंधी समस्याएं : सिफलिस बैक्टीरिया आपकी हृदय प्रणाली पर हमला कर सकता है। रक्त वाहिकाओं के संकुचन और धमनियों में सूजन की वजह से कई मामलों में यह हार्ट अटैक का कारण भी बन सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.