fbpx
Now Reading:
अगर आपको भी है एंटीबायोटिक की आदत तो ये खबर जरूर पढ़ें

अगर आपको भी है एंटीबायोटिक की आदत तो ये खबर जरूर पढ़ें

antibiotics

antibiotics

नई दिल्‍ली (चौथी दुनिया ब्‍यूरो) : प्रतिदिन की दौड़ती भागती जिंदगी में हमेशा हमलोग सिरदर्द, पेटदर्द, बुखार होने पर बिना डॉक्‍टर की सलाह लिए अपने आसपास की दवाई दुकान से अपने अनुसार कोई भी ऐंटीबायॉटिक दवा ले लेते हैं और तबीयत ठीक होने तक ऐसा करते रहते हैं. जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए. यह आपके लिए बहुत खतरनाक हो सकता है. इस पर डॉक्‍टर का कहना है कि यदि जरूरत से ज्‍यादा एंटीबायोटिक दवाएं खाने से डायरिया तथा पेट की खतरनाक बीमारियों से ग्रस्‍त हो सकते हैं.

किसी भी एंटीबायोटिक का गलत या जरूरत से अधिक इस्‍तेमाल करने से इंफेक्‍शन जल्‍दी ठीक नहीं होता है. इससे एंटीबायोटिक रेजिस्‍टेंट ऑर्गेज्‍म्‍स भी विकसित हो सकते हैं. इसलिए बिना डॉक्‍टर की सलाह के कोई भी एंटीबायोटिक लगातार नहीं लेना चाहिए नहीं तो लेने के देने पड़ सकते हैं. बिना आवश्‍यकता के एंटीबायोटिक्‍स लेते हैं तो आपके शरीर के माइक्रोब्‍स या बैक्‍टीरिया खुद को बदल लेते हैं और एंटीबायोटिक्‍स उन्‍हें कुछ नहीं कर पाते हैं.

Related Post:  मैं कई लोगों से प्यार करने में यकीन करती हूं और करती रहूंगी: राधिका आप्टे

इन्‍हें भी पढ़ें : डिप्रेशन से उबरना है तो रसोई में रखे इन चीजों को खाएं

डॉक्‍टर का कहना है कि लोग बिना आवश्‍यकता के भी एंटीबायोटिक्‍स का इस्‍तेमाल करते हैं तो ये बैक्‍टीरिया अपने आप को इस तरह बदल लेते हैं कि दवा केमिकल्‍स या इंफेक्‍शन हटाने वाले किसी भी इलाज का इनपर कुछ भी असर नहीं होता है. ऐसे बैक्‍टीरिया न सिर्फ दवाईयों से खुद को बचा लेते हैं बल्कि अपनी संख्‍या भी बढ़ाते रहते हैं जो हमारे स्‍वावास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही खतरनाक है. बैक्‍टीरिया और इससे होने वाली बीमारियों को खत्‍म करने के लिए ली जाती हैं और यह सर्दी, खांसी, बुखार जैसे वायरल इंफेक्‍शन को भी खत्‍म नहीं कर पाता है. डॉ ने बताया कि एंटीबायोटिक प्रतिरोधक क्षमता विश्‍व के सबसे बडे स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या बन गई है. इसे गंभीरता से लेते हुए हमें इससे बचने के लिए ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को एंटीबायोटिक्‍स के उपयोग और उसके फंक्‍शन के बारे में जागरूक करना होगा.

Related Post:  Mumbai Saga: जॉन, इमरान के बाद अब जैकी श्रॉफ और सुनील शेट्टी भी ‘मुम्बई सागा' में आएंगे नजर

Antibiotics Resistance

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (डब्‍ल्‍यूएचओ) के अनुसार एंटीबायोटिक्‍स दवाई वायरस संक्रमण को रोकने और इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं हैं. ऐंटीबायॉटिक प्रतिरोध तब होता है, जब इन दवाओं के उपयोग के जवाब में बैक्टीरिया अपना स्वरूप बदल लेता है. डब्लूएचओ ने कहा कि, ‘‘बिना जरूरत के ऐंटीबायॉटिक दवा लेने से ऐंटीबायॉटिक प्रतिरोध में वृद्धि होती है, जो कि वैश्विक स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़े खतरों में से एक है. ऐंटीबायॉटिक प्रतिरोध संक्रमण से मरीज को लंबे समय तक अस्पताल में भर्ती रहने, इलाज के लिए अधिक राशि और बीमारी गंभीर होने पर मरीज की मौत भी हो सकती है.’’ ऐंटीबायॉटिक प्रतिरोध संक्रमण किसी भी देश में किसी भी आयुवर्ग और किसी को भी प्रभावित कर सकता है. साथ ही जब बैक्टीरिया ऐंटीबायॉटिक के प्रतिरोध हो जाता है तो आम से संक्रमण का भी इलाज नहीं किया जा सकता.

Related Post:  'शहर की लड़की' गाने पर हॉट अंदाज़ में नज़र आएंगी डायना पिंटो

इन्‍हें भी पढ़ें : सर्दियों में मूंगफली खाने से होता है इन बीमारियों का इलाज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.