fbpx
Now Reading:
बेटे ने पार की जुल्म की इंतहा, पैसों के लिए मां को 6 महीने तक बनाए रखा बंधक, हुई मौत
Full Article 2 minutes read

बेटे ने पार की जुल्म की इंतहा, पैसों के लिए मां को 6 महीने तक बनाए रखा बंधक, हुई मौत

केरल के तिरुवनंतपुरम से एक चौकानें वाला मामला सामने आया है. जहां संपत्ति विवाद के चलते  बेटे ने बीमार मां को न सिर्फ 6 महीने तक घर में ही कैद रखा बल्कि उनका इलाज कराने से भी इनकार कर दिया.  बेटे के जुल्मों से तंग आकर बुजुर्ग महिला ने बीते शनिवार दम तोड़ दिया. कलयुगी बेटे के  जुल्मों की पोल उस समय खुली जब महिला की बेटी और पड़ोसियों ने पुलिस को इस बारे में सूचना दी.

घटना तिरुवनंतपुरम जिले के बलरामपुरम की है. जहां रहने वाली 75 वर्षीय ललिता को संपत्ति विवाद को लेकर उनके छोटे बेटे विजयकुमार ने घर में बंद कर दिया था. जिसके बाद बीते  19 सितंबर को, ललिता की बेटी एल जया और पड़ोसियों ने पुलिस को सूचित किया कि उन्हें घर में बंद ललिता से मिलने नहीं दिया जा रहा. महिला की बेटी और पड़ोसियों की शिकायत पर जब पुलिस मौके पर पहुंची तो घर और कैंपस के गेट बंद पाए गए. जिसके बाद पुलिसकर्मियों ने दरवाजा तोड़ दिया.

दरवाजा तोड़कर अन्दर पहुंचे पुलिस वालों के होश तब उड गए जब उन्होंने ललिता को अत्यंत दयनीय स्थिति में पाया, उसके घावों में कीड़े पड़ गए थे और तो और उनके  शरीर पर पूरे कपड़े भी नहीं थे. जिसके बाद वहां मौजूद लोग उन्हें अस्पताल लेकर पहुंचे. जहां डाक्टरों ने बताया कि ललिता  6 महीने से लीवर सिरोसिस से पीड़ित थी, लेकिन  बेटे  मां की बीमारी का पता होने के बावजूद उनके इलाज से इनकार कर दिया था.

वहीं जब पुलिस ने मामले की पड़ताल शुरू की तो ललिता के पोते सतीश ने खुलासा करते हुए बताया कि मेरी दादी के खाते में 15 लाख रुपये हैं, जो मेरे दादा की मृत्यु के बाद उनके नाम किया गया था. उसकी दो बेटियों और दो बेटों का उस पर समान अधिकार है, लेकिन विजयकुमार सारा पैसा लेना चाहते थे. जिसके लेकर कोर्ट में केस भी चल रहा है. इसी झगड़े की वजह से उन्होंने किसी भी रिश्तेदार को दादी से मिलने नहीं दिया.

ललिता की मौत के बाद सतीश ने विजयकुमार के खिलाफ मामला दर्ज कराने कमी बात कही है. हालाकिं कि इस मामले में पुलिस ने पहले विजयकुमार को गिरफ्तार किया था, लेकिन बाद में उन्हें जमानत मिल गई है.

Input your search keywords and press Enter.