fbpx
Now Reading:
महाराष्ट्र में सरकार पर सस्पेंस बरकरार : कांग्रेस-एनसीपी नेताओं की बैठक टली, पवार ने नहीं खोले पत्ते
Full Article 3 minutes read

महाराष्ट्र में सरकार पर सस्पेंस बरकरार : कांग्रेस-एनसीपी नेताओं की बैठक टली, पवार ने नहीं खोले पत्ते

ncp-chief-sharad-pawar

महाराष्ट्र की सियासत पर सस्पेंस अब भी बना हुआ है. एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार सोमवार को दिल्ली में सोनिया गांधी से क़रीब एक घंटे मिले. शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने के सवाल पर पवार ने साफ़ तौर पर कुछ भी नहीं कहा. पवार ने ये भी कह दिया कि वो तो अभी सबके साथ हैं. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजों के 25 दिन बाद भी राज्य में जहां कोई सरकार नहीं बन पाई है तो वहीं उम्मीद की जा रही थी कि सोमवार शाम एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच हुई मुलाकात के बाद तस्वीर साफ होगी. बैठक के बाद शरद पवार ने आने के बाद घर पर पत्रकारों से बात की लेकिन शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर अपने पत्तों को नहीं खोला.

बैठक से पहले राज्यसभा में प्रधानमंत्री मोदी ने सदन में एनसीपी की तारीफ की जिसके बाद एनसीपी और बीजेपी के बीच बढ़ती नजदीकियों पर चर्चा होने लगी. पत्रकारों से बात करते समय शरद पवार ने सबको तब चौंका दिया जब उन्होंने कहा कि शिवसेना के साथ कॉमन मिनिमम प्रोग्राम को लेकर कोई बैठक नहीं हुई है.

बीजेपी के साथ 50-50 फार्मूला फार्मूले पर बात नहीं बनने के बाद शिवसेना एनडीए से बाहर भी आ गई और संसद में सोमवार को उसने विपक्ष जैसे तेवर भी दिखाएं शिवसेना अभी पूरे भरोसे में है कि वह एनसीपी कांग्रेस की मदद से सरकार बनाने जा रही है. शिवसेना के साथ जाने ना जाने की कांग्रेस की दुविधा बरकरार है कांग्रेस का एक खेमा इससे होने वाले नुकसान की बात कर रहा है तो दूसरी तरफ दूसरा खेमा बीजेपी को सत्ता से बाहर रखने के लिए इसे जोड़ी बता रहा है इस बीच कांग्रेस के मीडिया इंचार्ज रणदीप सुरजेवाला ने एक पॉलिटिकली करेक्ट ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा कि शरद पवार ने सोनिया गांधी से बात कर महाराष्ट्र के वर्तमान राजनीतिक हालात की जानकारी दी. आने वाले एक दो दिनों में कांग्रेस और एनसीपी के नेता मिलकर आगे की रणनीति तय करेंगे.

वहीं, शरद पवार के बयानों से यह साफ हो गया कि तीनों पार्टियों के बीच अब तक सत्ता बनाने को लेकर अंतिम फैसला नहीं हुआ है और महाराष्ट्र में कुछ और दिनों तक राष्ट्रपति शासन जारी रहेगा.

Input your search keywords and press Enter.