fbpx
Now Reading:
मुज़फ़्फ़रनगर में अनोखा न्याय- कवाल कांड में सभी 7 आरोपियों को आजीवन कारावास, दो- दो लाख रुपये जुर्माना
Full Article 2 minutes read

मुज़फ़्फ़रनगर में अनोखा न्याय- कवाल कांड में सभी 7 आरोपियों को आजीवन कारावास, दो- दो लाख रुपये जुर्माना

मुजफ्फरनगर: पांच साल की न्यायिक प्रक्रिया के बाद अदालत ने कवाल कांड में सभी 7 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। 27 अगस्त, 2013 को जानसठ कोतवाली क्षेत्र के कवाल गांव में मलिकपुरा के गौरव और उसके ममेरे भाई सचिन की हत्या कर दी गई थी। इस घटना में कवाल के शाहनवाज की भी मौत हुई थी। जिसके बाद महापंचायत के दौरान दंगा भड़क गया था। यह घटना मुजफ्फरनगर दंगे का कारण बनी, जिसमें 65 से ज्यादा बेगुनाहों की मौत हो गई।

 

वादी पक्ष के अधिवक्ता अनिल जिंदल ने बताया कि इस मामले में मृतक गौरव के पिता रविन्द्र की ओर से जानसठ कोतवाली में कवाल निवासी मुजस्सिम, मुजम्मिल, फुरकान, नदीम, जहांगीर, शाहनवाज (मृतक) और अफजाल के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया था। वहीं, मृतक शाहनवाज के पिता सलीम ने दोनों मृतकों सचिन व गौरव के अलावा उनके परिजनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।एसआइटी ने जांच के बाद शाहनवाज हत्याकांड में एफआर लगा दी थी और दोहरे हत्याकांड में पांच आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट न्यायालय में दाखिल कर दी थी। इस मामले में पांच आरोपित मुजस्सिम, मुजम्मिल, फुरकान, नदीम और जहांगीर तभी से जेल में बंद हैं।

पांच साल की न्यायिक प्रक्रिया के बाद कोर्ट ने सात आरोपियों को इस मामले में दोषी करार दिया था। सज़ा के अलावा सभी आरोपियों पर दो- दो लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। बताया गया कि इसी धनराशि में से अस्सी प्रतिशत धनराशि पीड़ित परिवारों को दी जाएगी।

Input your search keywords and press Enter.