fbpx
Now Reading:
आदमखोर बिल्लियों ने ली डेढ़ साल के मासूम की जान, दिल दहलाती घटना से फीका पड़ा होली का रंग
Full Article 2 minutes read

आदमखोर बिल्लियों ने ली डेढ़ साल के मासूम की जान, दिल दहलाती घटना से फीका पड़ा होली का रंग

पटना: बिहार की राजधानी पटना से ठीक होली के पहले आदमखोर बिल्लियों के डेढ़ साल के मासूम की बेरहमी से जान लेने का मामला सामने आया है जिसके बाद त्यौहार के पहले घर में मातम पसर गया।
घर में लोग होली की तैयारियों में व्‍यस्‍त थे। मां आपने डेढ़ साल के मासूम बच्‍चे को कमरे में सुलाकर काम कर रही थी। इसी बीच जो हुआ, वह जानकर आपकी रूह कांप जाएंगी। दो बिल्लियों ने कमरे में घुसकर मासूम की गला दबाकर हत्‍या कर दी। घटना पटना के बिहटा में मंगलवार की शाम में हुई।
मृतक मासूम था परिवार की इकलौती औलाद 
होली के ठीक पहले हुई इस घटना से पूरे गांव में मातम का माहौल है। मृतक माता-पिता की इकलौती संतान था। उसके पिता चंदन कुमार टेम्पो चालक हैं, जबकि मां आंगनबाड़ी सेविका हैं। घर में होली की तैयारियां चल रहीं थीं।इस बीच कहीं से दो बिल्लियां कमरे में घुस गईं और आपस मे लड़ने लगीं। इस दौरान उन्‍होंने बच्चे पर भी हमला कर दिया। बिल्लियां बच्‍चे की गर्दन पकड़कर नोंचने लगीं। उन्‍होंने बचचे के शरीर को भी बुरी तरह नोंच डाला। घायल बच्‍चे के रोने की आवाज सुनकर परिजन दौड़े तो देखा कि बिल्लियां बच्चे का गला पकड़ खींच रहीं थी।
मातम में बदला होली का माहौल 
परिजन खून से लथपथ बच्चे को बिहटा अस्पताल ले गए, जहां डॉक्‍टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना से पूरे गांव में मातम का माहौल है।वरीय पशु विशेषज्ञ डॉ. अजीत कुमार कहते हैं कि अमूमन बिल्लियां बच्चों पर हमला नहीं करतीं। लेकिन बिल्ली के पंजे के नाखून बहुत तेज होते हैं। गले के आसपास की नस दबने या कटने पर मासूम की मौत संभव है।
Input your search keywords and press Enter.