fbpx
Now Reading:
कोरी एंडरसन के नाम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का सबसे तेज शतक
Full Article 3 minutes read

कोरी एंडरसन के नाम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का सबसे तेज शतक

unnamed-(2)न्यूजीलैंड के बल्लेबाज कोरी एंडरसन के लिए नया साल एक बड़ी उपलब्धि लेकर आया. उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ क्विंस टाउन में खेले गए तीसरे एक दिवसीय मैच में क्रिकेट इतिहास का सबसे तेज शतक लगाने का कारनामा कर दिखाया. अपने एकदिवसीय करियर के सातवें मैंच में उन्होंने 36 गेंदों में शतक जड़कर पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी का 18 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया. अफरीदी ने 37 गेंदों में शतक बनाया था. आफरीदी ने यह शतक वर्ष 1996 में अपने करियर के महज दूसरे एकदिवसीय मैच में श्रीलंका के खिलाफ केन्या की राजधानी नैरोबी में लगाया था. 18 साल से इस रिकॉर्ड के आस-पास भी कोई खिलाडी नहीं फटक सका था, लेकिन कोरी ने एक अनजान खिलाड़ी के रूप में इस रिकॉर्ड को अपने नाम कर लिया. कोरी ने अपनी आतिशी पारी में 47 गेंदों में नाबाद 131 रन बनाए. उन्होंने अपनी शतकीय पारी में 14 छक्के और 6 चौके भी लगाए, लेकिन वह एक पारी में सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाले भारतीय खिलाड़ी रोहित शर्मा का रिकॉर्ड नहीं तोड़ सके. जिस तरह एक पारी से शाहिद अफरीदी अनजान खिलाड़ी से स्टार बन गए थे. शायद कोरी भी अफरीदी की राह पर चल पड़े हैं. 23 वर्षीय यह खिलाड़ी इस बार आईपीएल में सबसे ज्यादा बोली वाले खिलाड़ी बन सकता है. सारी फ्रेंचाइजीज की नजरें नीलामी के दौरान इस खिलाड़ी पर होगी. अपने रिकॉर्ड के तोड़े जाने पर शाहिद अफरीदी ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि मुझे यकीन नहीं हो रहा है कि किसी ने मेरा रिकॉर्ड तोड़ दिया है. मैं चाहता था कि मेरे क्रिकेट खेलते रहने तक मेरा यह रिकॉर्ड कायम रहे, पर ऐसा हो नहीं सका. 18 साल तक उनका यह रिकॉर्ड कायम रहा, यह उनके लिए एक बड़ी उपलब्धि है.

Related Post:  #HappyBirthdayVirat: विराट का कुछ कीजिए... वो तो क्रिकेट से 'रोमांच' ही खत्म कर रहे हैं!

 

कैलिस की हरफनमौला टेस्ट पारी का अंत

kaillisदुनिया के महानतम ऑल- राउंडर जैक कैलिस ने 18 साल लंबे अपने टेस्ट करियर को अलविदा कह दिया है. कैलिस ने अपने करियर के आखिरी टेस्ट की पहली पारी में शतक लगाया. वह अपनी शतकीय पारी के दौरान कैलिस सबसे ज्यादा टेस्ट रन बनाने वाले तीसरे खिला़डी बन गए. कैलिस पिछले 18 साल से अपनी टीम को अपनी गेंदबाजी के बल पर एक अतिरिक्त तेज गेंदबाज का फायदा दिलाते रहे. उनके टीम से जाने के बाद यकीनन टीम को दोहरी कमी खलेगी. अड़तीस बरस के कैलिस के नाम 166 टेस्ट में 13289 रन हैं. वह मात्र सचिन तेंदुलकर (15921) और रिकी पोंटिंग (13378) से ही पीछे रहे. उनका बल्लेबाजी औसत 55.37 रहा, जबकि उन्होंने 292 विकेट लेने के अलावा 200 कैच भी लपके. टेस्ट क्रिकेट में तेंदुलकर (51) के बाद उन्होंने सर्वाधिक 45 शतक जमाए हैं. किंग ऑफ ऑल-राउंडर्स कहे जाने वाले कैलिस फिलहाल एकदिवसीय क्रिकेट खेलते रहेंगे. कैलिस ने अपने टेस्ट करियर का आगाज इंग्लैंड के खिलाफ दिसंबर 1995 में किया था. संन्यास के बाद कैलिस ने कहा कि यह अद्भुत है, जिस तरीके से लोगों ने आकर मेरी हौसलाफजाई की. साउथ अफ्रीका और मेरी टीम ने इसे मेरे लिए एक खास मैच बना दिया. मैं इससे बेहतर की उम्मीद नहीं कर सकता था. उन्होंने कहा कि टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहने का फैसला कठिन है. इस मैच से पहले मुझे बेचैनी हो रही थी. एमएस धोनी और भारतीय टीम को धन्यवाद, जिन्होंने मुझे गार्ड ऑफ ऑनर दिया. प

Related Post:  सरकार के हाथ लगी स्विस बैंक के खाताधारकों की लिस्ट, लेकिन भारत वापस नहीं आएगा कालाधन ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.