fbpx
दीपक ठाकुर और लुसिंडा निकोलस होंगे MTV के शो ‘ऐस ऑफ़ स्पेस-2’ के कंटेस्टेंट?

दीपक ठाकुर और लुसिंडा निकोलस होंगे MTV के शो ‘ऐस ऑफ़ स्पेस-2’ के कंटेस्टेंट?

मुंबई: बिग बॉस के दो अलग अलग सीजन में लुसिंडा निकोलस और दीपक ठाकुर ने हिस्सा लिया था. लुसिंडा विकास के साथ शो के 11वें सीजन में उनकी साथी कंटेस्टेंट रह चुकी हैं. ‘मास्टरमाइंड’ विकास गुप्ता 24 अगस्त से ‘एमटीवी...

Video: रेलवे पुलिस ने बचाई शख्स की जान, संतुलन बिगड़ने पर चलती ट्रेन से गिरा था बाहर  

Video: रेलवे पुलिस ने बचाई शख्स की जान, संतुलन बिगड़ने पर चलती ट्रेन से गिरा था बाहर 

मुंबई: कल्याण रेलवे पुलिस की सूझबूझ से बची इस शख्स की जान. संतुलन बिगड़ने के बाद चलती ट्रेन से गिरा शख्स ट्रेन की चपेट में आकर भयंकर दुर्घटना का शिकार हो सकता था. कल्याण रेलवे स्टेशन पर लगे सीसीटीवी में...

जानिये, शीतला अष्टमी का महत्व और ऐसे करें शीतला माता की पूजा

जानिये, शीतला अष्टमी का महत्व और ऐसे करें शीतला माता की पूजा

उत्तर प्रदेश सहित देशभर में शीतला माता की पूजा अर्चना बड़ी ही आस्था के साथ की जाती है. इस बार शीतला माता की अष्टमी 28 मार्च 2019 गुरुवार को है. आइए जानें इस दिन का क्या महत्व है और इस दिन किस...

यहां होली पर मनाया जाता है मातम..वजह आपको हैरान कर देगी

यहां होली पर मनाया जाता है मातम..वजह आपको हैरान कर देगी

होली को हर्षो उल्लास का त्योहार माना जाता है. रंगों के इस पर्व को हर उम्र के लोग बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं. लेकिन देश में एक ऐसी जगह है जहां होली पर मातम छाया रहता है. यही नहीं...

HAPPY HOLI: होली पर रखें इन बातों का ध्यान तो होंगे मालामाल..

HAPPY HOLI: होली पर रखें इन बातों का ध्यान तो होंगे मालामाल..

आज देशभर में होली को धूमधाम से मनाई  जा रही हैं. वहीं ज्योतिषाचर्य के मुताबिक होली पर कुछ बातों का ध्यान रखने से आप को धन-सम्पदा, सुख-शांति और समृद्धि की प्राप्ति हो सकती है. तो चलिए आपको बताते हैं होली...

फ्रैंक इस्लाम की बॉलीवुड निर्देशक और मैनेजमेंट गुरु फौजिया अर्शी से मुलाकात 

फ्रैंक इस्लाम की बॉलीवुड निर्देशक और मैनेजमेंट गुरु फौजिया अर्शी से मुलाकात 

नई दिल्ली: हाल ही में भारत दौरे पर आए अमेरिकी कारोबारी, परोपकारी और इकोनॉमिस्ट फ्रैंक इस्लाम ने बॉलीवुड की बुद्धिजीवी निर्देशक और मैनेजमेंट गुरु फौजिया अर्शी से मुलाकात की और सराहना की। फ्रैंक ने फौजिया को फ्रैंक एंड डेबी मैनेजमेंट...

बच्चों ने एग्जाम में लिखा गुरूजी पास कर दो, पाकिस्तान से बदला लेना है, शिक्षक ने दिया ये जवाब 

बच्चों ने एग्जाम में लिखा गुरूजी पास कर दो, पाकिस्तान से बदला लेना है, शिक्षक ने दिया ये जवाब 

उत्तर प्रदेश छात्रों की शरारत देखकर आप भी दंग रह जाएंगे. उत्तरप्रदेश में 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं खत्म हो चुकी हैं और कॉपियों के जांचने का काम भी शुरू हो गया है. जैसे जैसे परीक्षार्थियों की जांच हो रही...

दुनिया के सबसे बड़े राम मंदिर के लिए मुसलमानों ने दान की अपनी जमीन..

दुनिया के सबसे बड़े राम मंदिर के लिए मुसलमानों ने दान की अपनी जमीन..

देश में धर्मं के नाम पर हिन्दू और मुस्लिम समुदाय हमेशा आमने सामने होते है. लेकिन बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में दोनों समुदाय के लोगों ने भाईचारे अनोखी मिसाल पेश की है. यहां के केसरिया ब्लॉक में बन रहे...

लहर के विरुद्ध : एक सियासी कहानी

लहर के विरुद्ध : एक सियासी कहानी

हमने खेदन भाई को इतना परेशान कभी नहीं देखा था. आज उनके पेट में वैसी ही मरोड़ें उठ रही थीं जैसी बखरौर के मेले से एक-दो दिन पहले बाबूजी की कमीज़ की जेब में पड़ी अठन्नियों की खनक सुनकर उठा...

विवाद से उठते बड़े सवाल

विवाद से उठते बड़े सवाल

हिंदी साहित्य को लेकर फेसबुक पर बहुधा ऐसे विवाद उठते रहते हैं, जिनका लक्ष्य किसी लेखक को नीचा दिखाना होता है. फेसबुकिया विवादों से साहित्यिक सवाल कम ही उठते रहे हैं. हिंदी साहित्य में वाद-विवाद का इतिहास काफी पुराना है....

दिनकर जयंती आयोजन पर विवाद

दिनकर जयंती आयोजन पर विवाद

  अगर हम बिहार के कला संस्कृति विभाग के सालाना कैलेंडर को देखें, तो उसके मुताबिक दिनकर के जन्मदिन पर एक कार्यक्रम का आयोजन उनके पैतृक गांव सिमरिया में होना था, जिसका नाम दिनकर साहित्य उत्सव था और इसके आयोजन...

मृत्यु पर मौन क्यों ‘सरकार’?

मृत्यु पर मौन क्यों ‘सरकार’?

दिल्ली की हिंदी अकादमी के उपाध्यक्ष और हिंदी के वामपंथी कवि-आलोचक विष्णु खरे का निधन हो गया. विष्णु खरे को चंद महीने पहले ही केजरीवाल सरकार ने, मैत्रेयी पुष्पा का कार्यकाल खत्म होने के बाद, हिंदी अकादमी का उपाध्यक्ष नियुक्त...

‘पुरस्कार वापसी’ अभियान नहीं साज़िश!

‘पुरस्कार वापसी’ अभियान नहीं साज़िश!

साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष विश्वनाथ तिवारी ने अपनी पत्रिका दस्तावेज में लंबा संपादकीय लिखकर अवॉर्ड वापसी की मुहिम के संगठित अभियान होने का दावा किया है. अपने दावे के समर्थन में उन्होंने कई प्रमाण भी प्रस्तुत किए हैं. तिवारी...

साहित्यिक विवाद का वधस्थल फेसबुक

साहित्यिक विवाद का वधस्थल फेसबुक

साहित्यिक पत्रिका ‘पाखी’ में छपे हिंदी के लेखक-अध्यापक विश्वनाथ त्रिपाठी से की गई बातचीत पर जारी विवाद के बीच मशहूर कथाकार ह्रषिकेश सुलभ ने फेसबुक पर दो महत्वपूर्ण टिप्पणियां की थीं. एक तो उन्होंने लिखा ‘फेसबुक एक वधस्थल है.’ दूसरी...

फिल्म म्यूज़ियम का सपना कब होगा साकार?

फिल्म म्यूज़ियम का सपना कब होगा साकार?

यूपीए सरकार के दस साल के शासन के दौरान पूर्व में बनी कई महात्वाकांक्षी योजनाओं पर काम शुरू हुआ था, करोडों खर्च हुए लेकिन वो पूरी नहीं हो पाईं. ऐसी ही एक योजना थी मुंबई में नेशनल म्यूजियम फॉर इंडियन...

संवाद से सवालों के घेरे में ‘व्योमकेश दरवेश’

संवाद से सवालों के घेरे में ‘व्योमकेश दरवेश’

राजेन्द्र यादव के जीवित रहते साहित्यिक परिदृश्य जीवंत बना रहता था. वो अपनी पत्रिका हंस में या अन्यत्र भी अपनी टिप्पणियों या अपने साक्षात्कार आदि के माध्यम से कुछ ऐसा कह जाते थे या कुछ ऐसा लिख देते थे, जिससे...

भाषा अकादमियों के ज़रिए राजनीति

भाषा अकादमियों के ज़रिए राजनीति

हाल ही में दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने कैबिनेट की बैठक में 15 भाषा अकादमियों के गठन को मंजूरी दी. उन भाषाओं की अकादमियां भी दिल्ली में होंगी, जिनके बोलने लिखने वाले लोग राजधानी दिल्ली में रहते हैं. भारतीय भाषाओं...

मुजरिम का महिमामंडन करती फिल्म

मुजरिम का महिमामंडन करती फिल्म

हिंदी फिल्मों में पिछले दिन जितने भी बॉयोपिक बने लगभग सभी सफल रहे, कुछ बेहद सफल तो कुछ ने औसत कमाई की. क्रिकेटर महेन्द्र सिंह धौनी, मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर, बॉक्सर मैरी कॉम, धावक मिल्खा सिंह आदि पर बनी फिल्मों...

137 वीं जयंती पर याद किए जा रहे हैं साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद

137 वीं जयंती पर याद किए जा रहे हैं साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद

प्रेमचंद को हिन्दी कहानी व उपन्यास का सम्राट कहा जाता है.  साहित्यकार मुंशी प्रेमचंद की आज 137वीं जयंती है. 8 अक्टूबर 1936 को 56 वर्ष की उम्र में इनका निधन हो गया था. प्रेमचंद ऐसे उपन्यासकार थे, जिन्होंने अपनी लेखनी...

स्थापित उद्देश्यों से भटकती संस्था

स्थापित उद्देश्यों से भटकती संस्था

एनएफडीसी अगर अपने स्थापित उद्देश्यों से भटक गई है, तो यह करदाताओं के साथ छल है और उनकी गाढ़ी कमाई को गलत जगह पर गलत तरीके से खर्च करने का अपराध भी. इसकी सर्वोच्च स्तर पर जांच होकर जिम्मेदारी तय...

लंबी बीमारी के बाद नहीं रहे कवि गोपाल दास नीरज, यह थी आखिरी इच्छा

लंबी बीमारी के बाद नहीं रहे कवि गोपाल दास नीरज, यह थी आखिरी इच्छा

हिंदी के प्रख्यात कवि गोपाल दास नीरज का लंबी बीमारी के बाद गुरुवार को 93 साल की उम्र निधन हो गया. उन्हें मंगलवार को आगरा के अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. तबीयत...

साहित्य में उठाने गिराने का खेल

साहित्य में उठाने गिराने का खेल

अगर हम देखें, तो नहीं पढ़ना या कम पढ़ना एक बड़ी समस्या के तौर पर साहित्य में उपस्थित हो गया है. समस्या तब और बड़ी हो जाती है, जब कम पढ़ा और बड़ा बयान दिया जाता है. फेसबुक पर इन...

नई वाली हिंदी को नए विषय की दरकार

नई वाली हिंदी को नए विषय की दरकार

नई वाली हिंदी की ब्रैंडिंग के बाहर के लेखक चेतन भगत और पंकज दूबे ने भी यूनिवर्सिटी जीवन को केंद्र में रखकर उपन्यास लिखे. पंकज दूबे को भी जो सफलता ‘लूजर कहीं का’ में मिली थी वैसी सफलता उनको बाद...

सफल होती नायिका प्रधान फिल्में

सफल होती नायिका प्रधान फिल्में

तीन साल पहले की बात है, कुमाऊं लिटरेचर फेस्टिवल में फिल्मों पर एक सत्र चल रहा था, जिसमें फिल्मी शख्सियतों पर पुस्तकें लिखनेवाले लेखक शामिल थे. राजेश खन्ना के जीवनीकार गौतम चिंतामणि और यासिर उस्मान, शशि कपूर के जीवनीकार असीम...

संस्कृति प्राथमिकता में नहीं

संस्कृति प्राथमिकता में नहीं

एक नजर भाषा के विकास के लिए बनाई गई संस्थाओं पर डालते हैं, तो वहां भी कई ऐसे संस्थान हैं जो बगैर अध्यक्ष या निदेशक के चल रहे हैं. हिंदी को लेकर ये सरकार बहुत संवेदनशील रही है. इसको संयुक्त...

सोशल मीडिया का अराजक तंत्र

सोशल मीडिया का अराजक तंत्र

कर्नाटक में राजनीतिक गहमागहमी के बीच कांग्रेस पार्टी ने रामधारी सिंह दिनकर की एक कविता की कुछ पंक्तियां टि्‌वट की. सदियों की ठंढी-बुझी राख सुगबुगा उठी/मिट्टी सोने का ताज पहन इठलाती है/दो राह, समय के रथ का घर्घर नाद सुनो/सिंहासन...

अपने अपने देवदास

अपने अपने देवदास

हिंदी फिल्मों के इतिहास और हिंदी साहित्य पर नजर डालें तो बहुत दिलचस्प चीजें सामने आती हैं. कुछ लेखकों का फिल्मों का अनुभव बहुत बुरा है. हिंदी के कथा सम्राट प्रेमचंद तो फिल्मों को लेकर बहुत दुखी रहते थे. रामवृक्ष...

विभाजन, युद्ध और प्यार की फिल्में

विभाजन, युद्ध और प्यार की फिल्में

हिंदी फिल्मों में भारत-पाकिस्तान के विभाजन और उसमें हिंदू-मुस्लिम, पारसी, सिख परिवारों के द्वंद्व पर भी कई फिल्में आईं. भारत-पाकिस्तान विभाजन को केंद्र में रखते हुए और उसके वजहों को दर्शाती पहली फिल्म मानी जाती है ‘धर्मपुत्र’. ये फिल्म यश...

सोना जैसे मसलों पर चुप्पी ठीक नहीं

सोना जैसे मसलों पर चुप्पी ठीक नहीं

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में जिन्ना की तस्वीर पर मचे बवाल के बीच एक और अहम खबर दब सी गई. उसपर चर्चा कम हो पाई. वैसे भी राजनीति के शोरगुल में कला संस्कृति हमेशा से दबती रही है, लेकिन राजनीति का...

Input your search keywords and press Enter.