fbpx
Now Reading:
खेल महासंघों का नेतृत्व खिलाड़ियों को करना चाहिए
Full Article 2 minutes read

खेल महासंघों का नेतृत्व खिलाड़ियों को करना चाहिए

Hockey_India_Na104सुप्रीम कोर्ट ने देश में हॉकी के गिरते स्तर को लेकर काफी चिंता जताई है और कहा है कि इस खेल का स्तर दिनोंदिन गिरना चिंता का विषय है. शीर्ष कोर्ट ने कहा कि राजनीति के कारण खेल का स्तर काफी नीचे गिर गया है. साथ ही कोर्ट ने यह टिप्पणी भी की है कि खेल महासंघों का नेतृत्व कारोबारियों के बजाय खिलाड़ियों को करना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि राष्ट्रीय खेल के गिरते स्तर के लिए कोई ठोस उपाय सामने नहीं आए हैं और यह चिंतनीय है. भारत पहले इस खेल में गोल्ड मेडल जीतता था, पर अब नहीं. न्यायालय ने इंडियन हॉकी फेडरेशन की याचिका पर सुनवाई के दौरान ये टिप्पणियां की. इंडियन हॉकी फेडरेशन की प्रतिद्वन्द्वी संगठन हॉकी इंडिया के साथ कानूनी लड़ाई चल रही है. इसमें अंतरराष्ट्रीय आयोजनों में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए दोनों हॉकी संगठनों में से किसे मान्यता दी जाए, इस सवाल पर फेडरेशन ऑफ इंटरनेशनल हॉकी में चल रही कार्रवाई पर रोक लगाने का अनुरोध किया गया है. न्यायालय ने इंडियन हॉकी फेडरेशन की दलीलों पर संक्षिप्त सुनवाई के बाद जानना चाहा कि फेडरेशन की कमान किसके पास है और क्या इसमें कोई ओलंपिक खिलाड़ी भी है?

Related Post:  चिदंबरम पर गिरफ्तारी की तलवार, घर पर डटी है CBI की टीम, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई 

न्यायाधीशों ने फेडरेशन की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता यू यू ललित से सवाल किया कि खेल महासंघों का मुखिया कौन है? वे कारोबारी हैं. क्या सोसायटी में कोई ओलंपिक खिलाड़ी हैं. न्यायाधीशों ने कहा कि आप इस खेल को इतने निम्न स्तर पर ले आए हैं कि आप अंतराष्ट्रीय खेलों में अपनी टीम भेजने के लिए क्वालीफाई भी नहीं कर पा रहे हैं. गौरतलब हो कि लंबे समय से हॉकी के खेल में राजनीति ने गहरी पैठ बना ली है. भारतीय हॉकी फेडरेशन (आईएचएफ) और हॉकी इंडिया (एचआई) के बीच रस्साकस्शी काफी गहरा गई है. दोनों पक्ष इस खेल के ऊपर अपने अधिकार का दावा करते हैं. हॉकी भारत ने दो साल पहले सुप्रीम कोर्ट में दस्तक दी थी और उस मामले में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने इस खेल को लेकर यह टिप्पणी की है.

Related Post:  इतिहास में पहली बार, HC के जज के खिलाफ दर्ज होगा मामला,चीफ जस्टिस गोगोई ने CBI को दी मंजूरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.