fbpx

Tag: आतंकवाद

टाइम्स ऑफ इंडिया और जंग ने जनता को धोखा दिया है

टाइम्स ऑफ इंडिया और जंग ने जनता को धोखा दिया है

कुछ महीनों पहले हमें दिल्ली और देश के अनेक क्षेत्रों में कुछ बड़ी-बड़ी होर्डिंग्स दिखाई पड़ीं. उनमें नारा बड़ा आकर्षक था. बाद में पता चला कि ऐसी ही होर्डिंग्स पाकिस्तान में भी लगी हैं. हमारे देश के अंग्रेज़ी अख़बार टाइम्स...

मृत्यु दंड : अमानवीय या ज़रूरत

मृत्यु दंड : अमानवीय या ज़रूरत

कैपिटल पनिशमेंट, जिसे मृत्यु दंड या फांसी के नाम से भी जाना जाता है, का मुद्दा उसके समर्थकों और विरोधियों के बीच अक्सर गर्मागर्म बहस का कारण बनता रहा है. मृत्यु दंड के ख़िला़फ तर्क देते हुए एमनेस्टी इंटरनेशनल का...

भारत-बांग्‍लादेश संबंध और पूर्वोत्‍तर का मुद्दा

भारत-बांग्‍लादेश संबंध और पूर्वोत्‍तर का मुद्दा

काफी उम्मीदों और ढेर सारी संभावनाओं के बावजूद भारत और बांग्लादेश के संबंधों में अपेक्षित सुधार नहीं आ सका है. भौगोलिक, भाषाई, सांस्कृतिक, आर्थिक एवं राजनीतिक रूप से दोनों देश एक-दूसरे के का़फी नज़दीक रहे हैं. इसके बावजूद अविश्वास और...

आक्रामक कूटनीति की समस्याएं

आक्रामक कूटनीति की समस्याएं

पाकिस्तान के साथ सचिव स्तर की बातचीत के लिए भारत की पेशकश से दोनों देशों के बीच गतिरोध दूर होने की संभावना है. लेकिन, तत्काल चुनौती यह है कि बातचीत का रास्ता कैसे शुरू हो?

भारतीय कंपनियां भी बेहतर सामरिक साज़ोसामान बना सकती हैं

भारतीय कंपनियां भी बेहतर सामरिक साज़ोसामान बना सकती हैं

सैद्धांतिक तौर पर गणतंत्र दिवस परेड हमारी सैन्य शक्तिके प्रदर्शन का एक अवसर है, लेकिन व्यवहारिक तौर पर ऐसा लगता है, जैसे हमारी सैन्य कमज़ोरियां ज़ाहिर हो रही हैं. अगर स़िर्फ कमज़ोर प्रदर्शन का सवाल है तो कोई बात नहीं...

क्‍या तालिबान आतंकवाद को बेच देगा?

क्‍या तालिबान आतंकवाद को बेच देगा?

तालिबान को खदेड़ने के लिए अमेरिका ने आठ साल पहले अ़फग़ानिस्तान में क़दम रखा. एक हफ़्ते पहले लंदन में तालिबानियों का गर्मजोशी के साथ स्वागत किया गया कि वे आगे आकर सत्ता में भागीदारी करें. इससे भी अहम बात यह...

क्‍या भारत को हॉलब्रूक की जरूरत है?

अफग़ानिस्तान और पाकिस्तान में तैनात अमेरिकी दूत रिचर्ड हॉलब्रूक अ़फग़ानिस्तान-पाकिस्तान नीति में अमेरिका की जीत के लिए भारत को फ़ायदेमंद मानते हैं. यह कोई पहला मौक़ा नहीं है, जब रिचर्ड हॉलब्रूक ने अ़फग़ानिस्तान-पाकिस्तान नीति में भारत को शामिल किए जाने...

सीआईए और मोसाद का स्माइल इंडिया 2015

सीआईए और मोसाद का स्माइल इंडिया 2015

यह अमेरिकी खु़फिया एजेंसी सीआईए का मिशन हिंदुस्तान 2015 है, जो भारत को टुकड़े-टुकड़े कर इसके वज़ूद को ख़त्म करने की ख़ौ़फनाक साज़िश है. इस मिशन पर अमेरिकी खु़फिया एजेंसी सीआईए ने अपनी पूरी ताक़त झोंक दी है. सीआईए की...

दो साल देर से शुरू हुई 21वीं सदी

दो साल देर से शुरू हुई 21वीं सदी

वर्ष 2002 में बीसवीं सदी का अंत उस व़क्त हुआ, जब गोधरा में दंगे शुरू हुए. यह हिचकोलों से भरा युग था, जिसने समाज को बर्बाद किया और मुल्क के टुकड़े-टुकड़े कर दिए. वह भी उस समय, जब हमारा यक़ीन...

आतंकवाद के खिलाफ भारत-पाकिस्‍तान का एकजूट होना जरूरी

आतंकवाद के खिलाफ भारत-पाकिस्‍तान का एकजूट होना जरूरी

भारत और पाकिस्तान भौगोलिक तौर पर अविभाज्य देश हैं, जिन्होंने इतिहास के गर्भ से एक साथ जन्म लिया है. अब नतीजा चाहे कुछ भी हो, इन दोनों देशों का भविष्य हमेशा एक दूसरे से जुड़ा रहेगा.

ब्लैक वाटर के जरिए पाकिस्तान में अमेरिकी हस्तक्षेप

ब्लैक वाटर के जरिए पाकिस्तान में अमेरिकी हस्तक्षेप

एरिक प्रिंस ख़ुद को ईसाइयों का धर्मयोद्धा मानता है. उसका मक़सद दुनिया के ऩक्शे से मुसलमानों और इस्लामिक आस्था को मिटाना है. पाकिस्तान में ब्लैक वाटर को लेकर तरह-तरह की चर्चाओं का बाज़ार गर्म है.

स़िर्फ एक क़ानून ने ज़िदगी दुश्वार कर दी

स़िर्फ एक क़ानून ने ज़िदगी दुश्वार कर दी

एएफएसपीए, जिसे पूर्वोत्तर राज्य के पहले विद्रोही संगठन नागा काउंसिल को नेस्तनाबूद करने के लिए लाया गया था, आतंकवाद को जड़ से खत्म कर पाने में सक्षम नहीं है. आज असम और मणिपुर में कम से कम 75 आतंकवादी संगठन...

ज़रदारी की पकड़ से बाहर हुए परमाणु हथियार

ज़रदारी की पकड़ से बाहर हुए परमाणु हथियार

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने जैसे ही अ़फग़ानिस्तान में आतंकवाद के ख़िला़फ अपनी नई नीति की घोषणा की, वैसे ही दुनिया के सबसे ख़तरनाक देश पाकिस्तान में हालात और भी ख़राब हो गए. पाकिस्तानी सेना व विपक्ष के दबाव में...

नई अ़फग़ान—पाक नीति ख़तरनाक क़दम

नई अ़फग़ान—पाक नीति ख़तरनाक क़दम

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अपनी अ़फग़ानिस्तान-पाकिस्तान (अ़फग़ान-पाक) नीति में पूरी तरह से विफल हो चुके हैं. इसी साल मार्च में ज़ोर-शोर से लाई गई अ़फगान-पाक नीति कारगर साबित नहीं हुई. लिहाजा, आठ साल से अ़फग़ानिस्तान में आतंकवाद के खिला़फ लड़...

खबरदार आतंकवाद

खबरदार आतंकवाद

मनमोहन भाई, मैं आतंकवाद हूं मैं तुमको पीटने आया हूं. खबरदार ऐसी बेवकूफी मत करना. मैं बहुत ताकतवर हूं. बच नहीं पाओगे. तडाक...... मैं तुमसे अनुरोध करता जा रहा हूं और तुम हो कि मुझे पीटते जा रहे हो. मैं...

आतंकी ख़तरों के प्रति हमारी तैयारी

आतंकी ख़तरों के प्रति हमारी तैयारी

कुछ नेताओं ने हेराफेरी का सहारा लिया और भारत को एक कमज़ोर शक्ति के तौर पर पेश किया. यदि हम गार्डेन ऑफ इडेन (यह माना जाता है कि दुनिया का सबसे पहला आदमी और उसकी पत्नी यहीं रहते थे) के...

मुसलमानों की नही, मदनी को राजनीति की फिक्र है

मुसलमानों की नही, मदनी को राजनीति की फिक्र है

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर ज़िले का देवबंद क़स्बा. पिछले दिनों जमायत-ए-उलेमा-ए-हिंद के 30वें वार्षिक सम्मेलन में यहां लाखों लोग जुटे थे. स़िर्फ और स़िर्फ पुरुष. जमायत-ए-उलेमा-ए-हिंद देवबंदी फिरके के मुस्लिम उलेमाओं का कट्टरपंथी धड़ा है. सूत्रों का दावा है कि...

पुलिस सुधार के वायदे पूरे नहीं हुए

पुलिस सुधार के वायदे पूरे नहीं हुए

मुंबई पर आतंकी हमले की घटना को एक साल बीत चुका है. इस हमले की वजह से ही हम जुल्लु यादव, हेमंत करकरे और कई दूसरे बेहतरीन पुलिस अधिकारियों के बारे में जान सके. यह वारदात हमारे राजनीतिक वर्ग के...

पाकिस्तान को बचाने का आख़िरी मौका

पाकिस्तान को बचाने का आख़िरी मौका

1989 में जब कश्मीर घाटी में आतंकवाद अपने चरम पर था तो उस व़क्त आतंकवादियों की संख्या पांच से दस हज़ार से ज़्यादा नहीं थी. लेकिन वे लंबे अर्से तक भारतीय सेना को परेशान करते रहे. एक अनुमान के मुताबिक़,...

पाकिस्तान का अलादीनी चिराग

पाकिस्तान का अलादीनी चिराग

गिलानी साहब, पाकिस्तान आतंकवाद का गढ है फिर भी निडरता से आप आतंकवाद के खिलाफ लडाई में विश्व समुदाय का साथ दे रहे हैं, मुझे लगता है कि शांति का नोबेल पुरस्कार के असली हकदार आप हो ओबामा नही, बुडबक...

तालिबान को जनता का समर्थन नहीं

पाकिस्तान की जनता की हिम्मत की दाद देनी चाहिए, जो इस माहौल के ख़िला़फ खड़ी हो रही है. तालिबानी संस्कृति के ख़िला़फ पाकिस्तानी औरतें प्रदर्शन कर रही हैं और OKजुलूस निकाल रही हैं. लड़कियां तालिबानी धमकियों को अनदेखा कर रही...

जिहादी तालीम की सरजमीं

जिहादी तालीम की सरजमीं

कुछ साल पहले की बात है. बहावलपुर के पास मेरी मुलाक़ात अपने गांव के कुछ ऐसे युवाओं से हुई जो जिहाद की तैयारी कर रहे थे. मैंने उन्हें अपनी आंखें बंद कर अपना भविष्य देखने की सलाह दी. बड़ी शालीनता...

आखिर क्यों महतवपूर्ण है विदेश नीति

आखिर क्यों महतवपूर्ण है विदेश नीति

स्वतंत्रता के छह दशकों में पूरी दुनिया नेहरू जी की कल्पना से भी अधिक एक-दूसरे के साथ जुड़ गई है. आज यह कहना उचित ही होगा कि वे देश-जो अपने धन, ताक़त अथवा दूरी के कारण- जो कभी अपने आपको...

ये आजमगढ़ है, आतंकगढ़ नहीं

ये आजमगढ़ है, आतंकगढ़ नहीं

पांच महीने बीत जाने के बाद भी जब संदेहास्पद बाटला हाउस एनकाउंटर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट जारी नहीं की गई, तो सूचना के अधिकार के तहत पूछे जाने पर दफा 81 के तहत सूचना पर अदालती प्रतिबंध की झूठी सूचना दी...

गोली से नहीं सियासत से शहीद हुए हेमंत करकरे

गोली से नहीं सियासत से शहीद हुए हेमंत करकरे

चार्जशीट में दिए ब्यौरे के मुताबिक इस गिरोह का नेटवर्क भारत से बाहर कई देशों, यहां तक कि इस्लामिक देशों में भी फैला है़ देश की मौजूदा राजनीतिक स्थिति में चार्जशीट में दिए गए तथ्यों की व्याख्या कतई नहीं की...

Input your search keywords and press Enter.