fbpx

Tag: उत्तराखंड

उत्तराखंड क्रांति दल की कलह सतह पर

उत्तराखंड क्रांति दल की कलह सतह पर

उत्तराखंड राज्य निर्माण में महती भूमिका निभाने वाला, अपने जन आंदोलनों के लिए विख्यात उक्रांद अब अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है. राज्य में भारतीय जनता पार्टी सरकार के गठन में पार्टनर की भूमिका अदा कर सत्ता का सुख...

उत्तर प्रदेश-उत्तराखंडः मेहनतकशों का सम्‍मान नहीं

उत्तर प्रदेश-उत्तराखंडः मेहनतकशों का सम्‍मान नहीं

समाज में स्पष्ट रूप से दो वर्ग देखे जा सकते हैं. एक है पारंपरिक सामंती एवं नव धनाढ्य शासक वर्ग, जिसमें अधिकांश नौकरीपेशा हैं और दूसरा है मेहनतकश वर्ग, जो इंसान की मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने हेतु भौतिक सामग्रियों...

ऊर्जा प्रदेश में बिजली का संकट

बिजली की बढ़ती मांग और उस अनुपात में लगातार गिरता उत्पादन, यही है ऊर्जा प्रदेश बनने का सपना संजोए उत्तराखंड की सीधी-सपाट पहचान. मांग के अनुरूप बिजली आपूर्ति सामान्य बनाए रखने के लिए राज्य को हर साल सर्दी के दिनों...

गुलदारों की मौत का अंतहीन सिलसिला

गुलदारों की मौत का अंतहीन सिलसिला

देवभूमि उत्तराखंड सरकार की उपेक्षा एवं मानवीय दखल के कारण वन्य क्षेत्र गुलदारों के लिए कब्रगाह बनता जा रहा है. पिछले दिनों करंट लगने से दो गुलदारों की दर्दनाक मौत ने वन्यजीव प्रेमियों को एक बार फिर हिला कर रख...

रक्षक की सुरक्षा का सवाल

रक्षक की सुरक्षा का सवाल

शेर और बाघों को प्रकृति का वरदान माना जाता है, जिन्हें प्रकृति ने जंगल की रक्षा का दायित्व सौंपा है. अफसोस कि आज जंगल का वही रक्षक स्वयं सुरक्षित नहीं है. उसे सबसे अधिक क्षति मानव ने पहुंचाई. उत्तराखंड में...

मांझी ही नाव डुबोए

मांझी ही नाव डुबोए

देवभूमि उत्तराखंड के राजनीतिक परिदृश्य में फिल्मी गीत की यह पंक्ति इस समय राजनीति का हर मर्मज्ञ गुनगुना रहा है कि मांझी जब नाव डुबोए, उसे कौन बचाए. वजह यह है कि देहरादून दौरे पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन...

बैकफुट पर निशंक सरकार

बैकफुट पर निशंक सरकार

उत्तराखंड सरकार ने विवादित जल विद्युत परियोजना रद्द कर दी है. सरकार के इस फैसले से विपक्ष खासा नाराज़ है. इसके पहले विपक्ष ने सदन के अंदर और बाहर आरोप लगाया था कि 54 जल विद्युत परियोजनाओं के आवंटन में...

दूर हो रहे भगवान

दूर हो रहे भगवान

देवभूमि उत्तराखंड के देवालयों में विराजमान नारायण आमजन से कितने दूर हो चुके हैं, यह जनता को इन पावनधामों में पहुंचने पर पता चलता है. इन धामों में दर्शन की फीस में इस वर्ष 40 प्रतिशत की सीधे की गई...

उत्तराखंड में बिजली संकट गहराया

उत्तराखंड में बिजली संकट गहराया

देश की अति महत्वाकांक्षी टिहरी बांध परियोजना में लगातार गिरते जलस्तर से किसी भी क्षण विद्युत उत्पादन ठप होने की आशंका बढ़ती जा रही है. इस बांध में अब विद्युत उत्पादन के लिए मात्र छह मीटर जल शेष रह गया...

चार धाम यात्रा अव्‍यवस्‍था का शिकार

चार धाम यात्रा अव्‍यवस्‍था का शिकार

देवभूमि उत्तराखंड में धर्म एवं आस्था की मिसाल पेश कर पर्यटन को एक पहचान देने वाली चार धाम यात्रा सरकारी उपेक्षा और अव्यवस्था की भेंट चढ़ कर राम भरोसे चल रही है. इसमें प्रत्येक वर्ष लाखों श्रद्धालु यमुनोत्री-गंगोत्री सहित केदारनाथ...

गंगा तेरा पानी अम़ृत

गंगा तेरा पानी अम़ृत

गंगाजल को सात समंदर पार बेचने की अपनी अति महत्वाकांक्षी योजना को साकार करने के लिए उत्तराखंड सरकार ने गंगा स्वायत्तशासी प्राधिकरण का ऐलान करके प्रति वर्ष कम से कम पांच सौ करोड़ रुपये जुटाने की योजना को अंतिम रूप...

निशंक सरकार और गंगा प्रेम का पाखंड

निशंक सरकार और गंगा प्रेम का पाखंड

महाकुंभ 2010 के सकुशल संपन्न होने के बाद उत्तराखंड सरकार के सभी मंत्रियों के साथ हरिद्वार स्थित मालवीय द्वीप में बैठक कर मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने गंगा एवं पर्यावरण को बचाने की अपनी प्रतिबद्धता का संदेश दिया. लेकिन,...

चरण वंदना करके निबट गया महाकुंभ

चरण वंदना करके निबट गया महाकुंभ

जैसे-तैसे आख़िर निबट ही गया उत्तराखंड का पहला महाकुंभ! घोर असुविधाओं और शासन-प्रशासन एवं पुलिस द्वारा बाबा लोगों की चरण वंदनाओं के भरोसे-सहारे ही संपन्न हो गया 2010 का महाकुंभ. सच तो यह है कि आलोक ने आनंदपूर्वक संतों के...

मनमोहन ने बंद कराई गंगा परियोजना : संतों के सामने कांग्रेस भाजपा से ज्‍यादा नतमस्‍तक

मनमोहन ने बंद कराई गंगा परियोजना : संतों के सामने कांग्रेस भाजपा से ज्‍यादा नतमस्‍तक

गंगा की अविरल जल धारा को बनाए रखने के मामले में संतों के कहने पर कांग्रेस की यूपीए सरकार भाजपा से भी आगे निकल गई है. अब वह मानने लगी है कि अगर गंगा की धारा से ज़्यादा छेड़छाड़ की...

मेला व्यवस्था पर नहीं, आस्था पर टिका है

मेला व्यवस्था पर नहीं, आस्था पर टिका है

ये पंक्तियां प्रकाशित होने तक उत्तराखंड के पहले महाकुंभ का मुख्य और अंतिम स्नान हरिद्वार में संपन्न हो चुका होगा. शासन, प्रशासन, पुलिस, हरिद्वार के नागरिक और स्थायी निवासी सभी लोग चैन की सांस ले रहे होंगे. महापर्व से सात...

संतों का प्रशासन पर दबाव, जनता ठगी गई

संतों का प्रशासन पर दबाव, जनता ठगी गई

हरिद्वार के महाकुंभ में 30 मार्च 2010 को इतिहास रचा गया. जो कभी नहीं हुआ था, वह हुआ. उत्तराखंड के इस पहले महाकुंभ में परंपराएं बदल दी गईं. गत तीन शाही स्नानों के क्रम में एक और अपरंपरागत शाही स्नान...

जैव विविधता और जैव प्रौद्योगिकी के बीच का घालमेल

जैव विविधता और जैव प्रौद्योगिकी के बीच का घालमेल

राष्ट्रीय जैव विविधता प्राधिकार यानी एनबीए ने उत्तराखंड के देहरादून डॉल्फिन इंस्टीट्यूट ऑफ बायोमेडिकल एंड नेचुरल साइंसेस के साथ एक समझौता किया है. उसने तीन जनवरी 2008 को अमेरिका स्थित लिबेनन में मास्कोमा कॉरपोरेशन को जैविक संसाधन हस्तांतरित करने के...

दागदार दामन को निशंक दबंगई से धोना चाहते हैं

दागदार दामन को निशंक दबंगई से धोना चाहते हैं

उत्तराखंड राज्य के मुखिया डा. रमेश पोखरियाल निशंक पर जिस तरह एक के बाद एक भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे है, उससे इस बात की आशंका ब़ढ जाती है कि सूबे के मुखिया का दामन बेदाग़ नहीं है. यह बात...

जो बोलेगा, सो झेलेगा

जो बोलेगा, सो झेलेगा

हिंदी के मशहूर लेखक एवं नाटककार मुद्राराक्षस बेहद गुस्से में थे. आक्रामक मुद्रा और तीखे स्वरों में लगभग चीखते हुए उन्होंने सवाल किया कि यह देश किसका है, किसके लिए है. हत्यारे, लुटेरे, बलात्कारी, दलाल, तस्कर खुलेआम घूम रहे हैं....

बाघों की जान ख़तरे में

बाघों की जान ख़तरे में

एक माह के भीतर चार बाघों की मौत ने यह सिद्ध कर दिया है कि अब उत्तराखंड में वन एवं वन्यजीव सुरक्षित नहीं हैं. उक्त घटनाएं नैनीताल के रामनगर स्थित कार्बेट नेशनल रिज़र्व टाइगर पार्क में घटीं. एक तऱफ केंद्र...

युवाओं की भागीदारी से प्रकाशक गदगद

युवाओं की भागीदारी से प्रकाशक गदगद

दिल्ली में आयोजित उन्नीसवां पुस्तक मेला ख़त्म बीती सात फरवरी को संपन्न हो गया. इस पुस्तक मेले में कई दिलचस्प बातें हुईं. पिछले विश्व पुस्तक मेले से मैंने कवि मित्र और कला प्रेमी यतींद्र मिश्र के साथ जामिनी राय की...

अब बन रहा है कुंभनगर में कुंभ का माहौल

अब बन रहा है कुंभनगर में कुंभ का माहौल

उत्तराखंड सरकार द्वारा घोषित 2010 के ग्यारह कुंभस्नानों में से चार स्नान जनवरी के अंत तक संपन्न हो चुके हैं. पर वास्तविकता यह है कि कुंभनगर में कुंभ की चहल-पहल अब जाकर शुरू हो सकी है.

कामकाज से शासन संतुष्ट, लेकिन आम लोग नहीं

कामकाज से शासन संतुष्ट, लेकिन आम लोग नहीं

उत्तराखंड के तीर्थनगर हरिद्वार में कहने को महाकुंभ शुरू हो चुका है और सरकारी घोषणाओं में इस महापर्व की सारी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. घोषणाओं से ऐसा लगता है कि मेज़बान जाजम बिछाकर, थाली

केंद्र की मदद से प्रदेश की चिंता मिटी

केंद्र की मदद से प्रदेश की चिंता मिटी

कुंभ अवधि के प्रथम पर्व के स्वागत की तैयारियां कमोबेश पूरी कर ली गई हैं. उक्त पंक्तियां लिखे जाने तक उत्तराखंड सरकार ने हरिद्वार को अस्थायी कुंभ जनपद घोषित कर दिया है. अब गढ़वाल मंडल के चार जनपदों के विभिन्न...

वतन के लिए मर—मिटने का जज्बा

वतन के लिए मर—मिटने का जज्बा

देशप्रेम किसी बाज़ार में नहीं बिकता और यह सबको मयस्सर भी नहीं है. यह पवित्र भावना जन्मती है संस्कारों से. आईएमए ने पिछले दिनों ऐसे ही लगभग सवा पांच सौ सैन्य अधिकारी राष्ट्रसेवा में समर्पित किए, जो वतन के लिए...

रूपकुंड से आगे की यात्रा

रूपकुंड से आगे की यात्रा

पिछले दिनों कई मित्रों से इस बारे में बातें हुईं कि नया क्या पढ़ा है. मित्रों ने कई ऐसी किताबों के नाम बताए जिसे या तो प़ढ चुका था या फिर पत्रों में उसकी चर्चा पढ़कर इतना जान चुका था...

खंडूरी के निशाने पर निशंक

खंडूरी के निशाने पर निशंक

राज्य के गठन को एक दशक होने वाला है, लेकिन उत्तराखंड अभी तक कोई ख़ास तरक्की नहीं कर सका है. जब राज्य सरकारें तरह-तरह के जलसों में ही व्यस्त रहेंगी और करोड़ों-अरबों रुपये का अपव्यय करेंगी तो विकास आख़िर कैसे...

डेढ़ अरब रुपये से ज़्यादा के स्थायी विकास कार्य

डेढ़ अरब रुपये से ज़्यादा के स्थायी विकास कार्य

उत्तराखंड के गठन के बाद कुंभ और अर्द्धकुंभ जैसे विराट जनपर्वों को लेकर एक जो महत्वपूर्ण परिवतर्र्न सामने आया, वे हैं स्थायी निर्माण कार्य. इससे पहले उक्त विराट मेले हरिद्वार में करोड़ों रुपये ख़र्च करने के सशक्त बहाने बनकर आते...

आर्या को हटाने की मुहिम ध्वस्त

आर्या को हटाने की मुहिम ध्वस्त

विकासनगर उपचुनाव में हार के लिए कांग्रेस हाईकमान ने प्रदेश संगठन में व्याप्त गुटबाज़ी और अंतर्कलह को ज़िम्मेदार माना है. हाईकमान ने इसके लिए वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री हरीश रावत को क़डी फटकार लगाई है. कांग्रेस की इस अंतर्कलह...

अभी और जंग लडनी है : राधा भटट

अभी और जंग लडनी है : राधा भटट

सरकारों की शोषक प्रवृत्ति नदियों के विनाश का कारण बन रही है. अगर हिमालय की नदियां सूख जाएंगी तो उत्तरी भारत तबाह हो जाएगा. बांग्लादेश और पाकिस्तान तक पानी की घोर कमी हो जाएगी. मानव आबादी ख़त्म होने लगेगी. सरकार...

Input your search keywords and press Enter.