fbpx

Tag: कोलकाता

कोलकाता में भिखारी ठाकुर फेस्टिवल

कोलकाता में भिखारी ठाकुर फेस्टिवल

भारत में सैकड़ों भाषाएं बोली जाती हैं, लेकिन हर भाषा को सरकारी दर्ज़ा हासिल नहीं होता है. हालांकि, किसी भी भाषा को दर्ज़ा मिलने का पैमाना उस भाषा को बोलने वालों की संख्या पर भी निर्भर करता है. अगर इस...

समाजसेवा ने रासमणि को रानी बना दिया

समाजसेवा ने रासमणि को रानी बना दिया

यह यथार्थ है कि जिस अनुपात में भारत में धनकुबेरों की संख्या बढ़ी है, उस मुक़ाबले वे अपनी सामाजिक ज़िम्मेदारियों के निर्वहन में पीछे होते चले गए. पहले आज के जैसे धनाढ्‌य तो नहीं थे, किंतु उनके चिंतन में समाज...

बंगाल को खाक कर देगी नानूर की चिंगारी

बंगाल को खाक कर देगी नानूर की चिंगारी

बंगाल के माथे पर देश की सांस्कृतिक राजधानी होने का ताज है, पर हाल के वर्षों में इसने कई और रिकार्ड बनाए हैं. किसी दल के लगातार 33 साल शासन में रहने का रिकॉर्ड इसके नाम है तो राजनीतिक हत्याओं...

बदलता बंगाल

बदलता बंगाल

यह महज़ एक संयोग था कि जिस दिन बंगाल के स्थानीय निकाय चुनावों उर्फ सेमी फाइनल के परिणाम आ रहे थे, उसी दिन गुजरात के साणंद में मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी नैनो की पहली खेप को फीता काटकर रवाना कर रहे...

कांग्रेस और तृणमूलः टूट गया गठबंधन

कांग्रेस और तृणमूलः टूट गया गठबंधन

कोलकाता नगर निगम चुनावों में महज़ 10 सीटों को लेकर तृणमूल और कांग्रेस के बीच गठबंधन टूट गया है. इसके साथ ही बाक़ी 80 नगर पालिकाओं पर भी तिकोनी-चौकोनी लड़ाई तय है. आगामी विधानसभा चुनावों की हवा बनाने के लिए...

उत्तर भारत बांग्‍लादेशी दुल्‍हनों का बड़ा बाजार

उत्तर भारत बांग्‍लादेशी दुल्‍हनों का बड़ा बाजार

मां तुम मुझे अब कभी नहीं देख सकोगी. मुझे भूल जाओ. सोच लो कि तुम्हारी बेटी नज़मा अब मर गई. मैं अपने बच्चों को नहीं छोड़ सकती और वे यहां आ नहीं सकते. वे तुम्हें कभी नानी नहीं कह पाएंगे....

कहीं यह चिंगारी शाहरुख़ को न जला दे

कहीं यह चिंगारी शाहरुख़ को न जला दे

आईपीएल की आग इतना भयंकर रुप ले लेगी, यह किसी को पता नहीं था. स़िर्फ एक सवाल के सही जवाब से यह घोटाला आज़ाद भारत में सबसे बड़े राजनीतिक उथल-पुथल का कारण बन सकता है. यक्ष प्रश्न यह है कि...

मुख्‍यमंत्री की कुर्सी अभी दूर है

मुख्‍यमंत्री की कुर्सी अभी दूर है

रेलवे परियोजनाओं के उद्घाटन की हड़बड़ी के कारण एक रोचक वाकया हो गया. 20 मार्च को महाराजा एक्सप्रेस के उद्घाटन समारोह के लिए अख़बारों को जो विज्ञापन जारी किया गया, उसके ऩक्शे में दिल्ली को पाकिस्तान और कोलकाता को बंगाल...

दिल्‍ली का बाबू : परंपरा की अनदेखी

दिल्‍ली का बाबू : परंपरा की अनदेखी

हाल में जब कई राज्यों में नए राज्यपालों की नियुक्ति की घोषणा हुई तो एम के नारायणन के कोलकाता पहुंचने को सबसे ज़्यादा सु़र्खियां मिलीं. लेकिन, जानकार लोगों की मानें तो विवादास्पद श्रेणी में आने वाली यह अकेली नियुक्ति नहीं...

मसुकदाना की खेती से किसान खुश

मसुकदाना की खेती से किसान खुश

टाल क्षेत्र के किसान कल तक कम पैदावार होने और लागत भी न निकल पाने की शिकायत कर रहे थे, लेकिन अब वे परंपरागत खेती को बाय-बाय कहकर नई खेती अपना रहे हैं. मोकामा-टाल के अधिकांश किसान भले ही आज...

चटकलिया मज़दूरों पर लटका जूट का फंदा

चटकलिया मज़दूरों पर लटका जूट का फंदा

कोलकाता के पास टीटागढ़ के जूट मिल मज़दूर शाम को चौपाल में जब लोक गायिका प्रतिभा सिंह का यह गीत गाते हैं तो माहौल गमगीन हो जाता है. ढोलक की थाप और झाल की झनकार में सिसकते आंसुओं की आवाज़...

हाथ रिक्शावाले धीमी मौत मर रहे हैं

हाथ रिक्शावाले धीमी मौत मर रहे हैं

कोलकाता की सड़कों से हाथ रिक्शा हटाने की अब कोई हड़बड़ी नहीं दिखती. शायद अगले विधानसभा चुनाव तक सरकार को इसकी ज़रूरत नहीं लगती. कभी हावड़ा पुल के साथ-साथ हाथ रिक्शा को भी कोलकाता की पहचान के तौर पर प्रस्तुत...

पत्नियां इतनी बुरी होती है

पत्नियां इतनी बुरी होती है

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद निवासी देवाशीष सरकार ने 30 नवंबर 2006 को जब ग्रेजुएट देवारती दत्त सरकार से शादी की तो उनके सामने थे केवल सुनहरे सपने. लेकिन सपने पापड़ की तरह अचानक चूर-चूर हो जाएंगे

खुद ही लिख डाली जुल्म—ओ—सितम की दास्तां

खुद ही लिख डाली जुल्म—ओ—सितम की दास्तां

वर्ष 2004 में अमेरिकी महिला फ़िल्मकार जाना ब्रिस्की एवं जॉन कुफमैन ने सोनागाछी की यौनकर्मियों के बच्चों पर एक डाक्युमेंट्री फ़िल्म बनाई-बोर्न इनटू ब्रोथेल्स. इसे साल की सर्वश्रेष्ठ डाक्युमेंट्री फ़िल्म का अवार्ड मिला. 2004 में इसे लेकर कुछ वैसा हो-हल्ला...

Input your search keywords and press Enter.