fbpx

Tag: मीडिया

बेहद हड़बड़ी में लिखी दर्द की दास्तां

बेहद हड़बड़ी में लिखी दर्द की दास्तां

इंदिरा गांधी की हत्या के पच्चीस साल पूरे हुए, साथ ही दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में सिखों के क़त्लेआम के भी. 31 अक्टूबर 1984 की सुबह दिल्ली में सफदरजंग रोड स्थित प्रधानमंत्री निवास पर इंदिरा गांधी की सुरक्षा...

क्या अब भी मीडिया एकजुट नहीं होगा?

मीडिया के पास एक अलिखित अधिकार है कि वह जनता के लिए किसी से, कैसा भी सवाल पूछ सकता है. वह ज़िम्मेदारी के साथ कार्यपालिका, विधायिका और राजनैतिक व्यवस्था एवं राजनैतिक कार्यकलाप से जुड़े लोगों के समाचार देता है. लोकतंत्र...

विंध्य की अवैध खदानें बनीं मौत का कुआं

विंध्य की अवैध खदानें बनीं मौत का कुआं

विंध्य क्षेत्र के आदिवासी ग़रीबी और बेरोज़गारी से बेहाल हैं, साथ ही उनकी संस्कृति भी ख़तरे में है. अनोखी लोकनृत्य कला करमा और झूमर के जरिए अपने फन का लोहा मनवा चुके इन आदिवासियों की संस्कृति मौत का कुआं बन...

Input your search keywords and press Enter.