fbpx
Now Reading:
दुनिया के सबसे बड़े राम मंदिर के लिए मुसलमानों ने दान की अपनी जमीन..

दुनिया के सबसे बड़े राम मंदिर के लिए मुसलमानों ने दान की अपनी जमीन..

देश में धर्मं के नाम पर हिन्दू और मुस्लिम समुदाय हमेशा आमने सामने होते है. लेकिन बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में दोनों समुदाय के लोगों ने भाईचारे अनोखी मिसाल पेश की है.

यहां के केसरिया ब्लॉक में बन रहे दुनिया के सबसे बड़े राम मंदिर को लेकर जितनी ख़ुशी हिन्दू समुदाय में है. मुस्लिम समुदाय के लोग भी उतने ही उत्साहित हैं. इस मदिर को बनाने के लिए न सिर्फ हिन्दू बल्कि मुस्लिम समाज के लोग भी खुलकर मदद कर रहे हैं. कुछ लोगों ने तो मंदिर के लिए अपनी जमीन तक दान कर दी है. इसके साथ ही कुछ मुस्लिम समुदाय के लोग मंदिर के निर्माण कार्य में भी अपना योगदान दे रहे हैं.

Related Post:  गुलाम नबी आजाद का बड़ा बयान, झारखंड को बताया मॉब लिंचिंग और हिंसा की फैक्ट्री

इस मंदिर के निर्माण के लिए 200 करो़ड रूपए खर्च कर जमीन का अधिग्रहण किया गया है. इस मंदिर 270 फुट ऊँचे इस मंदिर में 18 शिखर और 18 गर्भगृह होंगे. इसके साथ ही यह मंदिर 2800 फुट लम्बा और 1500 फुट चौड़ा होगा. दुनिया का सबसेबडा राम मंदिर होगा. जिसके चलते इसका नामा विराट रामायण मंदिर रखा जायेगा.इस मंदिर में श्रीराम, सीता के साथ उनके दोनों पुत्र लव-कुश और महर्षि वाल्मीकि की प्रतिमाएं स्थापित की जाएंगी.

Related Post:  झारखंड नक्सली हमले के बाद STF ने कुख्यात नक्सली सरयू कोड़ा को दबोचा, जंगलों में छिपकर रच रहा था साजिश

 

मिली जानकारी के मुताबिक इस मंदिर को बनाने में करीब 300 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है. इस मंदिर की कंबोडिया के अंकोरवाट मंदिर और तमिलनाडु के मदुरै मंदिर जैसी होगी. इसके निर्माण में सात से आठ साल लग सकते हैं.

Input your search keywords and press Enter.